उपायुक्त की अध्यक्षता में वोटर हेल्पलाईन एप्प एवं गरूड़ा एप्प से संबंधित एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन



उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में वोटर हेल्पलाईन एप्प एवं गरूड़ा एप्प से संबंधित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन सूचना भवन सभागार में किया गया। इस दौरान उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गयी कि आगामी मतदाता सूची संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्य 2022 जिसकी अहर्ता तिथि 01.01.2022 को मानते हुए मतदाता सूची का प्रारूप प्रकाशन दिनांक 01.11.2021 को सभी मतदान केन्द्रों, प्रखंडों, अनुमंडलों में किया जाना है, जिसमें दिनांक 01.11.2021 से 30.11.2021 तक आम नागरिकों से दावे-आक्षेप प्राप्त किये जाने है एवं उक्त मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन दिनांक 05.01.2022 को किया जाना है। वहीं सभी प्रपत्रों को ऑनलाईन गरूड़ा एप्प के माध्यम से किया जाना है। गरूड़ा एप्प जो बी०एल०ओ० का एप्प है। उक्त एप्प के माध्यम से सभी प्रकार के प्रपत्र जैसे- 6.6 क .7.8 एवं 8 क को ऑनलाईन किया जाना एवं सभी मतदान केन्द्रों पर मूलभूत सुविधा जैसे रेप, पानी, शैचालय, भवन की स्थिति आदि को अपलोड करने हेतु विस्तृत जानकारी उपायुक्त द्वारा प्रदान की गई। आगे उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री द्वारा सभी प्रशिक्षणार्थियों को जानकारी दी गयी कि गरुड़ एप में मतदान केंद्र पर मौजूद 25 तरह की सुविधाओं के टैगिंग की जा सकती है। मतदाता के घर,सदस्यों की संख्या जैसे कई महत्वपूर्ण जानकारियां अब इस एप के माध्यम से फिट की जा सकेंगी। मतदाता भी बड़ी सरलता से  मतदान केंद्र और अपना वोटर क्रमांक पता कर सकेंगे। साथ हीं प्रखंडों में कार्यरत बीएलओ को उनके मोबाइल में गरुड़ ऐप को डाउनलोड करा कर इस ऐप से संबंधित सारे कार्य के बारे में जानकारी प्रशिक्षण के दौरान प्रदान की गयी। 

इसके अलावे प्रशिक्षण कार्यमक्रम के दौरान उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजंत्री द्वारा जानकारी दी गई कि चुनाव आयोग द्वारा पारदर्शी व निष्पक्ष चुनाव सम्पन्न कराने के उद्देश्स से डीजिटल मोर्चें पर अपनी पहुंच का विस्तार लगातार किया जा रहा है। इसी कड़ी में सभी मतदाताओं की सुविधा को देखते हुए वोटर हेल्पलाईन एप की शुरूआत की गयी है। इस एप के माध्यम से चुनाव संबंधी विभिन्न तरह की जानकारी उपलब्ध है। आप इस एप पर आप चुनाव से संबंधित शिकायत दर्ज करने से लेकर, नामांकन, कैंडिडेट्स आदि तक की जानकारी पा सकते हैं। आप वोटर हेल्पलाईन एप्प की मदद से वोटर लिस्ट में अपना नाम भी चेक कर सकते हैं। इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। चुनाव आयोग के अनुसार, वोटर हेल्पलाईन एप्प को डिजाइन करने का मकसद देश के आम नागरिक को चुनाव प्रक्रिया व उससे जुड़ी हर स्तर की जानकारी उपलब्ध कराना है। गूगल प्ले स्टोर से इसे डाउनलोड करने के बाद एक मतदाता के रूप में आप अपनी व्यक्तिगत जानकारी चेक करने के साथ ऑनलाइन फॉर्म भी भर सकते हैं। आप अपने फॉर्म का स्टेटस भी वोटर हेल्पलाईन एप्प से चेक कर सकते हैं। साथ हीं वोटर हेल्पलाईन एप्प पर आप अपनी शिकायत भी दर्ज करवा सकते है। एप्प के माध्यम से चुनाव व परिणाम संबंधी जानकारी भी ली जा सकती है। वोटर हेल्पलाइन एप के मुख्य फीचर में जानकारी वेरिफाइ करने की सुविधा है. एक वोटर के रूप में आप अपने ईपीक नंबर की मदद से अपनी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ईपीक नंबर एक वोटर के रूप में आपको चुनाव आयोग की ओर से वोटर आईडी कार्ड पर दिया गया खास नंबर होता है। वोटर हेल्पलाईन एप्प पर वोटर लिस्ट में रजिस्ट्रेशन या नया वोटर आईडी कार्ड बनाने के लिए भी आवेदन किया जा सकता है। अगर आप अपने नाम, पते या विधानसभा क्षेत्र में बदलाव करना चाहते हैं तो वोटर हेल्पलाईन एप्प पर आवेदन कर सकते हैं। साथ हीं वोटर हेल्पलाईन एप के माध्यम से मतदाता व्यक्तिगत जानकारी के अलावा चुनावी प्रक्रिया की जानकारी भी हासिल कर सकते हैं। इसके माध्यम से भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट, स्वीप, एनवीएसपी, मतदाता सर्च और शिकायत पोर्टल का भी उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए मतदाता को एंड्रॉयड फोन पर प्ले स्टोर से वोटर हेल्पलाइन एप को डाऊनलोड करना होगा। इसके जरिए मतदाता को विधानसभा क्षेत्र में बदलाव और एक ही विधानसभा क्षेत्र के तहत मतदान केंद्र में बदलाव की जानकारी मिल सकती है। मतदाता सूची में गड़बड़ी में सुधार का आवेदन भी इसके माध्यम से किया जा सकता है। इसके लिए अलग-अलग डिजिटल फॉर्म भरने होंगे। आगे उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गयी कि वोटर हेल्पलाईन एप्प के माध्यम से सभी बी०एल०ओ० एवं सुपरवाईजर को प्रपत्रों की इंट्री एवं अन्य निर्वाचन संबंधी जानकारी प्राप्त करने हेतु लॉच किया गया है। इस एप्प के माध्यम से सभी निर्वाचन संबंधी जानकारी पाई जा सकती है। ऐसे में इस एप्प को आम नागरिकों के बीच वृहत रूप से प्रचार - प्रसार करने हेतु उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश दिया।

इस दौरान उपरोक्त के अलावे सहायक निर्वाची पदाधिकारी सह अनुमंडल पदाधिकारी श्री दिनेश कुमार यादव, प्रभारी पदाधिकारी गोपनीय शाखा श्री विवेक  मेहता, सभी प्रखण्डों के बीएलओ एवं सुपर वाईजर आदि के साथ-साथ संबंधित विभाग के अधिकारी व कर्मी आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं