आजादी के अमृत महोत्सव के तहत सेमिनार का आयोजन



आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में सूचना भवन सभागार में आज गीत नाट्य दलों के साथ एक सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के आरंभ में जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी श्री रवि कुमार एवं कला दल के सदस्यों द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं भारत के द्वितीय प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री के प्रतिमा पर  माल्यार्पण किया गया। इस दौरान जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी द्वारा आजादी के 75वें वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित सेमिनार में अमृत महोत्सव के उद्देश्य से संबंधित जानकारी कला दल के सदस्यों को दी गई। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के जीवनी से सीख लेते हुए हमें अपने क्षेत्र के लोगो को इसके लिए प्रेरित करना है। उन्होंने आगे कहा कि गीत-नाट्य सूचनाओं के सम्प्रेषण का सशक्त माध्यम है। इसका प्रदर्शन अधिक से अधिक स्थानीय भाषा में करें, ताकि लोगो के बीच योजनाओं के बारे में प्रभावपूर्ण तरीके से सूचनाएं सम्प्रेषित किया जा सके। आगे उन्होंने कहा कि जब भी कलादल की टीम जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार हेतु क्षेत्र में जायें,  महापुरुषों के जीवनी के अनुकरणीय बातों को जनसमूह के समक्ष रखें, ताकि आम जन उनके जीवन से प्रेरणा लेते हुए देश की प्रगति एवं समृद्धि में योगदान दे सकें।


  कला दल के दलनायको ने भी अपने-अपने विचारों से उपस्थित जनसमूह को अवगत कराया। उन्होंने गीत-नाट्य प्रस्तुति के दरम्यान आने वाली समस्याओं को जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी के समक्ष रखी। सभी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एव भारत वर्ष के द्वितीय प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री के जीवन संघर्षो की चर्चा की।

कार्यक्रम में उपरोक्त के अलावे  धनंजय नारायण खवाड़े ग्रुप के दलनायक धनंजय नारायण  खवाड़े एवं उनके कलादल की सदस्य बबिता पोद्दार, परिहस्त कत्थक नृत्य संस्थान ग्रुप के दलनायक संजीव परिहस्त, लोक प्रेरणा समाधान के दलनायक एस०पी०भुइयां (बिलास जी), गीत बहार कलादल के दलनायक उत्तम कुमार, सम्भव कला जत्था के दलनायक अरुण शर्मा, मनोज माधव ग्रुप के दलनायक मनोज कुमार माधव, संजय यादव नाट्य दल के दलनायक संजय यादव, किशोर बबुआ कलादल के दलनायक नन्द किशोर मंडल, जय माँ सर्वमंगला कलादल के दलनायक रूबी द्वारी, जितेन्द्र कुमार सिंह, जय माँ दुर्गे कलादल की सदस्य बबली कुमारी आदि उपस्थित थें।

कोई टिप्पणी नहीं