श्रीराम राष्ट्रीय काव्य पाठ प्रतियोगिता का हुआ आयोजन



देवघर -राष्ट्रीय कवि संगम,झारखंड प्रान्त के बैनर तले शुक्रवार की देर शांम से श्रीराम राष्ट्रीय काव्य पाठ प्रतियोगिता - 2021 के आयोजन की शुरुवात प्रांतीय अध्यक्ष सुनील खवाड़े की अध्यक्षता में गूगलमीट के माध्यम से हुई,जो देर रात तक चली।जानकारी देते हुए प्रांतीय मीडिया प्रभारी बीरेन्द्र अग्रवाल ने बताया,कि ये प्रतियोगिता देश के लगभग सभी प्रान्तों में होना तय हुआ है।उसी कड़ी में झारखंड में इसकी शुरुआत जिला स्तर से हुई,वहां से चयनित प्रतिभागी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लिए। 

झारखंड राज्य में आज हुए इस फाइनल प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान पर चयनित प्रतिभागियों को "झारखंड की उप राजधानी दुमका में 10 अक्टूबर, 2021 दिन रविवार दोपहर 1 बजे" से आयोजित पुरस्कार वितरण सह काव्य गोष्ठी"कार्यक्रम में पुरस्कृत किया जाएगा।इस ऑनलाइन काव्य गोष्ठी की शुरुवात अध्यक्षीय भाषण से हुई। सभी कवियों का उत्साहवर्द्धन करने के साथ ही ये उम्मीद जताई की इस बार राष्ट्रीय स्तर पर हमारे झारखंड की भी उपस्थिति शानदार होगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीश मित्तल ने भी सभी कवियों  को संबोधित करते हुए प्रभु श्रीराम के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि श्रीराम हमारे देश का चरित्र है। 

एक बार राम का नाम लेने मात्र से मनुष्य का कल्याण होता है, यहाँ राष्ट्रीय कवि संगम के इस राष्ट्रीय कार्यक्रम में कवियों के मुख से न जाने कितनी बार राम के नाम का उच्चारण होगा और कितनों का कल्याण होगा। काव्यगोष्ठी में प्रांतीय अध्यक्ष सुनील खवाड़े के अलावा, राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीश मित्तल, प्रांतीय प्रभारी दिनेश देवघरिया, प्रांतीय महासचिव सरोज झा, सलाहकार रामेश्वर चक्रवर्ती, सचिव प्रकाश भारद्वाज,  प्रतियोगिता संयोजक रोहित अम्बष्ठ, पीयूष राज सहित प्रतियोगिता में शामिल पूरे प्रदेश से 29 कवि उपस्थित थे।: निर्णायक मंडली की भूमिका में पूजा झा, ममता बनर्जी तथा सत्यनारायण प्रसाद थे।

कोई टिप्पणी नहीं