मधुपुर महाविद्यालय मैं राष्ट्रीय सेवा योजना यूनिट 2 के तहत सभागार में राष्ट्रपति महात्मा गांधी की 152वी जयंती मनाया गया



मधुपुर-मधुपुर महाविद्यालय मधुपुर में राष्ट्रीय सेवा योजना यूनिट-2 के तहत सभागार में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 152 वीं जयंती समारोह पूर्वक मनायी गयी । कार्यक्रम का शुभारंभ प्रभारी प्राचार्य डॉ रत्नाकर भारती,कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ भरत प्रसाद ने संयुक्त रूप से माल्यार्पण कर किया। मौके डॉ भारती  ने विस्तार पूर्वक दोनो विभूतियों पर प्रकाश डालते हुये कहा कि गाँधी और शास्त्री दोनो हमारे देश के प्रतीक है । गाँधी त्याग , सत्य और अंहिसा के मूर्ति है तो शास्त्री सादगी , सरलता और ईमानदारी की मूर्ति थे । डॉ भरत प्रसाद ने कहा कि गाँधी एक व्यक्ति नहीं एक विचारधार है । गांधी स्वराज का जो सपना देखे थे वह आज तक पुरा नही हुआ है । आज भी गाँधी के अंतिम व्यक्ति , अन्नदाता किसान , मजदूर व शिक्षित बेरोजगार हसिए पे है । सत्ता पूँजीपतियो के हाथों की कठपुतली बनी है । ऐसे में जयंती पर याद आना लाजिमी है । इस अवसर पर डॉ अश्विनी कुमार ,डॉ नूर नबी अंसारी, डॉ उत्तम शुक्ला, प्रो सत्यम कुमार,प्रो रंजीत कुमार प्रसाद सहित छात्र-छात्राओं में से सुमन,राखी,सौरव,अभिषेक,आयुषी,बबलू,रजनी ने गांधी के विचारों को साझा किया। मौके पर डॉ रंजीत कुमार,डॉ अनिता गुआ हेम्ब्रम, प्रो.आशुतोष कुमार,आशुतोष लाला,अंशु श्रीवास्तव, सिकंदर,बच्चु,कुंदन मौजूद थे।कार्यक्रम संचालन राम चन्द्र झा ने किया!

कोई टिप्पणी नहीं