पुराने सदर अस्पताल स्थित क्वाटर की स्थिति हो गयी है जर्जर



देवघर-दूसरे की जीवन को सेवा देकर रक्षा करनें वाले स्वास्थ्य महकमें के कर्मचारी खुद ही असुरक्षित जीवन जिनें को विवस हैं।ऐसा ही एक नज़ारा शहर के पुराने सदर अस्पताल में देखने को मिला जहां के क्वाटर की अवस्था पूरी तरह से जर्जर हो गयी है कभी छत तो कभी छज्जा खुद ही थोड़ी सी धमस से टूटकर गिरने लगता है इतना ही नहीं वारिश के दिनों में तो जल छत से डायरेक्ट घर के अंदर वारिश का पानी प्रवेश करता है।

जिसके कारण उक्त क्वाटर में रहने वाले स्वास्थ्य कर्मी दहशत की जीवन जी रहे हैं और हर समय एक अनजाने खतरे से दो चार हो रहे हैं।जबकि सरकार को उक्त मकान का किराया भी भुकतान किया जाता है पर विभाग का ध्यान इस ओर जाता ही नहीं है?

वहीं उक्त क्वाटर में रहने वाले लोगों को घर में चोरी के भय से एक सदस्य को चौबीसों घण्टे घर मे रहना पड़ता है भवन की खिड़की दरवाजा भी आखरी सांसे गिन रहा है।बहरहाल सभी कर्मी बाबा के भरोसे इस क्वाटर में रहकर अपना जीवन बसर कर रहे हैं और कहते हैं हम दूसरे की रक्षा करते हैं पर हमारी रक्षा करनें वाला कोई नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं