ओबीसी प्रकोष्ठ जिला कांग्रेस ने देवघर समाहरणालय समक्ष एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का किया आयोजन



देवघर पिछड़ी जाति को 27%आरक्षण की मांग को लेकर ओबीसी प्रकोष्ठ जिला कांग्रेस ने देवघर समाहरणालय समक्ष एक दिवसीय विशाल धरना अध्यक्ष अर्जुन राउत के अध्यक्षता में दिया। दर्जनों कार्यकर्ता आर मित्रा हाई स्कूल मैदान से झंडा,बैनर एवं नारे के साथ प्रदेश सचिव अवधेश प्रजापति के नेतृत्व में धरना स्थल पर पहुँचे।धरना के उपरांत महामहिम राष्ट्रपति के नाम एक सूत्री मांगपत्र देवघर उपायुक्त को सौंपा। मुख्य अतिथि जिला अध्यक्ष मुन्नम संजय ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस देश की आजादी के उपरांत ही देश के नागरिकों के लिए समान अवसर प्रदान करने के लिए सामाजिक और शिक्षण संस्थानों में अनुसूचित जाति, जनजाति,पिछड़े वर्ग के उन्नति एवं उत्थान के लिए संविधान में विशेष धाराएं संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के द्वारा की गई और उन्हें आरक्षण दिया गया। यहाँ तक पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के समय में सामान्य वर्गों के आर्थिक दृष्टि से पिछड़े परिवार के लिए भी 10% आरक्षण का प्रावधान किया गया। परंतु वर्तमान रोजगार विरोधी भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार एवं झारखंड राज्य के पूर्व की भाजपा सरकार ने पिछड़े समाज के साथ छल करने का काम किया है। उन्हें उचित आरक्षण देने का काम करने के बजाए उसे धौखा देने का काम किया।आज हम अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए इस धरना के माध्यम से हम पिछड़े समाज के उचित हक एवं अधिकार की मांग करते हैं।

धरना के आयोजक प्रदेश सचिव ओबीसी के प्रदेश सचिव अवधेश प्रजापति ने कहा कि देश की आजादी के बाद ही कालेलेकर आयोग और मंडल आयोग के सिफारिशों के आधार पर पिछड़े समाज को 27%आरक्षण दिया गया। परंतु मोदी सरकार आते ही आरक्षण में कटौती कर दी गई। वहीं राज्य में भी भारतीय जनता पार्टी की पूर्ववर्ती सरकार के मुखिया रघुवर दास ने  पिछड़ा आयोग से रिपोर्ट मांग किया। पिछड़ा आयोग के रिपोर्ट के अनुसार झारखंड के 55% आबादी को 50% आरक्षण देने की सिफारिश किया गया। परंतु ऐसा नहीं करते 14% पर ही रख दिया। ऐसे पार्टियां पिछड़ी समाज को सिर्फ बहला कर, धर्म के नाम पर भड़का कर वोट लेकर सरकार तो बना लेती है।लेकिन पिछड़े का शोषण जारी ही रहता है। आज पिछड़ों की बात करने वाली मोदी सरकार जाति जनगणना में पिछड़ी जाति की जनगणना नहीं कराने के लिए यह साबित होता है कि यह पिछड़ा समाज के घोर विरोधी सरकार है। धरना को संथाल परगना के कार्यक्रम प्रभारी आशा देवी ने कहा कि केंद्र के मोदी सरकार के साथ झारखंड के हेमंत सोरेन के ऐजेंडे में पिछड़ों को 27% आरक्षण देने का बात कही गई है और उसे अविलंब लागू करें।वहीं वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रो. उदय प्रकाश,अशोक सिंह, नागेश्वर सिंह, मीडिया प्रभारी दिनेश कुमार मंडल कांग्रेसन नेता दिनेशानंद झा, राजकुमार शर्मा,उपेंद्र प्रसाद राय,नगर अध्यक्ष रवि केसरी, गुलाब यादव, पारस यादव,आफताब आलम, महादेव पंडित,अभिषेक वर्मा नंदकिशोर वर्मा आदि ने संबोधित कर अभिलंब सरकारी सेवाओं एवं शिक्षण संस्थानों में पिछड़ों को 70% आरक्षण देने के समर्थन में अपनी बातों को रखा धरना में मुख्य रूप से नाहिदा सुल्तान,अनिल ठाकुर,कयूम अंसारी, अभिषेक दुबे,गोलू सिंह,प्रियांशु कुमार,मोहित कुमार, राहूल यादव,राहुल राउत,गौलू राउत,राहूल जैकर,रैयान यादव,दीप घौष,अजय, सपन मंडल,ओम प्रकाश यादव,निरंजन राणा,हारुन अंसारी, चांदो ठाकुर,गुलाब ठाकुर,राकेश जसवाल,राहुल कुमार वर्मा,बासुकी पंडित,कुलदीप यादव,अरविंद कुमार, संतोष यादव, मुन्ना राम पंडित,दिनेश पंडित,राजेश मंडल,अर्जुन दास, केलू मिर्धा,चांदनी राउत,संजना पांडेय राजनंदनी केसरी प्रिया पंडित आदि ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं