माँ दुर्गा अष्टधातु का प्रतिमा अभी तक बरामद नही होने से पुलिस के कार्यसेली पर नाराजगी।



सारठ बीते  2 जून को सारठ थाना क्षेत्र के  सबैजोर गांव के प्राचीन ठाकुरबाड़ी मंदिर से सात सौ बर्ष पुराना मां दुर्गा की मूर्ति चोरी ही जाने के बाबजूद अभी तक बरामद नही होने से लोगो मे पुलिस की कार्यसेली से काफी नाराजगी है।

घटना के इतने दिन बीतने के बाबजूद भी पुलिस के हांथ सफलता नहीं लगी है।वहीं इस  बड़ी चोरी के घटना से प्रखण्ड से लेकर जिला व राज्य स्तर तक चर्चा का विषय बना हुआ है।मां दुर्गा का प्रतिमा चोरी को लोग हाईप्रोफाइल चोरी मान रहै है।लोगों को अनुमान है कि इस प्राचीन मां की प्रतिमा चोरी में अंतरराष्ट्रीय गिरोह का हांथ हो सकता है।इस चोरी के घटना से प्रखण्ड क्षेत्र के लोग काफी मर्माहत दिख रहे है।प्रतिमा की चोरी से लोगों को धार्मिक भावना को काफी ठेस लगा है।मालूम हो कि उक्त गांव के ग्रामीणों के अनुसार सबैजोर गांव के पूर्वजों के द्वारा करीब 1810 ई. में सबैजोर गांव में बासोबास के लिए आए थे।और 1825 ई में सिंहवाहिनी (ठाकुरबाड़ी)मंदिर का निर्माण कर इस मंदिर में माता दुर्गा की प्रतिमा को स्थापित कर सभी ग्रामीण पूजा यर्चना करते थे। लेकिंन दो मई शाम को जब मंदिर का पुजारी देवली गांव निवासी नित्यानन्द तिवारी संध्या पूजा करने प्रत्येक दिन की भांति मंदिर पुहुँचा तो देखा कि मंदिर का कपाट खुला है और सिंहाशन पर से मां का मूर्ति गायब है।घटना की सूचना पर सभी ग्रामीण मंदिर परिसर में पुहुंचें और काफी खोजबीन भी किया गया ग्रामीणों ने मूर्ति वापस या इसकी सूचना देने वालों को 50 हजार रु नगद देने की घोषणा भी किया है। लेकिन इसके बाबजूद भी अभी तक प्रतिमा का कुछ सूचना अभी तक ग्रामीण को नहीं मिल पाया है । प्रतिमा की चोरी से ग्रामीण में काफी रोष ब्याप्त है की  आखिर कुलदेवी की इस प्राचीन प्रतिमा का चोरी होने से गांव में कोई अनिष्ट की संकेत तो नहीं दे रही है माता रानी।साथ ही तरह तरह लोग चर्चा कर रहे है।अभी तक पुलिस सिर्फ लकीर ही पिट रही है।ग्रामीण मां की प्रतिमा पाने को बेचैन है।जबकि  इतनी बड़ी घटना घटित होने  के बाबजूद इस  घटना का उद्भेदन नही कर सका है। वही इसको लेकर ग्रामीण,बुद्धिजीवी,राजनेता समेत सभी धर्म के लोग इन कांडों के उदभेदन के लिए  पुलिस कप्तान से उम्मीद लगाए बैठे है।ग्रामीण कहते है कि आखिर में पुलिस प्रसाशन के खिलाफ आंदोलन ही एक रास्ता बचा है।सभी लोग पुलिस कप्तान से माता की प्रतिमा वापस लाने की उम्मीद भी लगाए हुए  है।

कोई टिप्पणी नहीं