टीबी उन्मूलन अभियान के तहत उपायुक्त ने किया जागरूकता रथ रवाना:



साहिबगंज :--टीबी रोगियों की पहचान एवं उपचार के लिए चलाए जाने वाले टीबी उन्मूलन अभियान की ज़िले में सोमवार से विधिवत शुरुआत हुई।उपायुक्त रामनिवास यादव एवं सिविल सर्जन डॉ अरविंद कुमार द्वारा टीबी के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से जागरूकता रथ को समाहरणालय परिसर से हरी झंडी देकर रवाना किया।यह अभियान 25 अक्टूबर तक चलाया जाएगा।उपायुक्त ने इसी संदर्भ में बताया कि अभियान के तहत ज़िले में 07 लाख लोगों की टीबी की जांच की जाएगी। अभियान के दौरान टीबी रोग के प्रमुख लक्षणों जैसे-दो सप्ताह से अधिक खांसी, शाम के समय बुखार आना, वजन घटना व खखार में खून आना आदि की जानकारी संबंधित व्यक्तियों से ली जाएगी। टीबी रोग के लक्षण पाए जाने पर संभावित टीबी मरीजों का एक्स-रे एवं टूनॉट मशीन के माध्यम से टीबी रोग की निशुल्क जांच की जाएगी। साथ ही टीबी की रोकथाम व लोगों को इससे राहत देने के उद्देश्य से जागरुकता के विभिन्न प्रयास किए जाएंगे।


राष्ट्रीय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत क्षय रोग की जल्दी पहचान और उपचार के लिए एक्टिव केस फाइंडिंग:


इसी के साथ स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन के सहयोग से ज़िले में राष्ट्रीय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत क्षय रोग की जल्दी पहचान और उपचार के लिए एक्टिव केस फाइंडिंग को अभियान का रूप देकर जन आंदोलन का रूप दिया गया है।टीबी रोगी खोज अभियान अभियान के तहत गांव-गांव में सर्वे कर टीबी के रोगी तथा टीबी के लक्षणों वाले रोगियों को चिन्हित किया जाएगा। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम लोगों से अपील करेगी कि, इस रोग को छिपाएं नहीं बल्कि उसका इलाज कराएं। इलाज कराने से टीबी की बीमारी पूरी तरह ठीक हो सकती है।


टीबी के लक्षण मिलने पर उसका उपचार:


राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत जांच में किसी में टीबी के लक्षण मिलने पर उसकी जांच की जाएगी। साथ ही टीबी रोग पर नियंत्रण करने हेतु लोगों को सावधानियां बताते हुए जागरूक करने का प्रयास भी किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं