प्रखंड क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जा रहा है करमा पर्व।



कुंडहित (जामताड़ा):मंगलवार को भाई-बहन की स्नेह और प्रेम की निशानी के रूप में मनाए जाने वाली सात दिवसीय करमा पर्व कुंडहित प्रखंड के पुतुलबोना सहित विभिन्न गांव में धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। यह पर्व भाद्रपद शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि को मनाया जाता है। शनिवार को शुरू हुए करमा पर्व के दौरान व्रतियों ने नदी में डाली में बालू उठाकर उस में 9 प्रकार की बीज डालें इस दौरान पुतुलबोना गांव के पूजा मिर्धा, रिंकी मिर्धा, पायल मिर्धा, पूर्णिमा मिर्धा, प्रिया मिर्धा, बबली मिर्धा, लवली मिर्धा, ममता मिर्धा, शेखावती मुर्मू, पद्मावती मुर्मू, अंजना टूडू सहित दर्जनों महिलाओं ने बताया कि 7 दिवसीय भाई-बहन की स्नेह और प्रेम की पर्व शनिवार से शुरू किया गया है जो आगामी शुक्रवार को समापन किया जाएगा। महिलाओं ने बताया यह पर्व बहनों ने अपने भाई की लंबी आयु तथा सुख समृद्धि की कामना के लिए मनाया जाता है। इसके बदले में भाई ने बहनों को नया वस्त्र देकर सम्मान किया जाता है। यह पर्व के पहले भाई ने सभी बहनों को अपने घर लाते हैं इस दौरान महिलाओं ने करमा पर्व के इतिहास के बारे में बताते हुए कहा कि कर्मा और धर्मा नामक दो भाइयों ने अपने बहन की रक्षा के लिए जान को दांव पर लगा दिया था। दोनों भाई गरीब थे और उनकी बहन भगवान से हमेशा सुख समृद्धि के लिए तप करती थी। बहन की तप के बल पर ही दोनों भाइयों के घर में सुख समृद्धि आई थी। इस एहसान के बदले में दोनों भाइयों ने दुश्मनों से बहन की रक्षा के लिए जान तक गंवा दी थी। इस घटना के बाद से इस पर्व को मनाने की परंपरा शुरू हुई।

कोई टिप्पणी नहीं