बसपा व झामुमो के नेताओं व कार्यकर्त्ताओं ने विधायक का फूका पुतला, लगाये मुर्दाबाद के नारे



सारठ : झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के दौरान सारठ विधायक रणधीर सिंह द्वारा पत्रकारों को दिये बयान में भारतीय संविधान पर टिप्पणी करने से नाराज बसपा व झामुमो नेताओं ने सोमवार को सारठ चौक पर विधायक का पुतला फूंका और विधायक द्वारा भारत के संविधान को बदलने की बात कहे जाने को संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर का अपमान बताते हुए रणधीर सिंह के विरोध में जमकर नारेबाजी की। विरोध प्रदर्शन कर रहे पार्टी नेताओं का कहना था कि देश के संविधान के विषय में अमर्यादित बयान देने वाले रणधीर सिंह को अपना बयान वापस लेना होगा और माफी भी मांगनी पड़ेगी।पुतला दहन कार्यक्रम में शामिल बिरसा भीम सेना के केंद्रीय अध्यक्ष मुकेश कुमार व झामुमो युवा मोर्चा के केंद्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत शेखर ने कहा संवैधानिक पद पर रहकर विधायक ने संविधान का मजाक उड़ाया है। यदि अपने बयान को वापस लेते हुए माफी नहीं मांगी तो आगे भी चरणबद्ध तरीके से विरोध प्रदर्शन होगा और विधायक की शव यात्रा भी निकाली जायेगी। मौके पर बसपा के संताल परगना प्रभारी जयदेव महरा, जिला महासचिव बलदेव दास, पार्टी नेता सुरेश  दास, सतीश दास, पिंटू दास, राजेश दास, सरोज दास , संतोष दास, झामुमो के मुन्ना सिंह, निर्मल शर्मा समेत अन्य मौजूद थे। वहीं सारठ मैन चौक पर विधायक का पुतला दहन करने के पूर्व सभी नेताओं ने झमाझम बारिश के दौरान भी सारठ के शहीद गणेश पांडेय चौक से बजरंगबली चौक तक पैदल मार्च किया और रणधीर सिंह, मुर्दाबाद, होश में आओ, रणधीर सिंह इस्तीफा दो, हाय-हाय के नारे भी लगाये।

कोई टिप्पणी नहीं