स्वास्थ्य विभाग की सक्रियता से कम हो रही कोरोना एक्टिव मरीजों की संख्याः मुख्यमंत्री



पटना। माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के निर्देश पर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के जन्मदिवस के अवसर पर 17 सितंबर को चले विशेष कोरोना टीकाकरण महाभियान ने टीकाकरण के पीछले सारे रिकार्ड को पिछे छोड़ दिया है। रात्रि 12 बजे तक एक दिन में सर्वाधिक 30 लाख से अधिक लोगों को टीकाकरण कर बिहार देश में पहले पायदान पर रहा। माननीय मुख्यमंत्री कंकड़बाग स्थित पाटलिपुत्रा स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स के टीकाकरण केंद्र में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने सूबे के विभिन्न सदर एवं अनुमंडल अस्पताल में बने 72 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट राज्य को समर्पित की। मौके पर माननीय राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कृत विजेता एएनएम रेंजु कुमारी एवं जीएनएम वंदना कुमारी को इस उपलब्धि के लिए माननीय मुख्यमंत्री ने प्रशस्ति पत्र एवं 10-10 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की। कार्यक्रम में कुम्हरार विधायक अरुण कुमार सिन्हा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव, प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार एवं अपर कार्यपालक निदेशक अनिमेष कुमार पराशर आदि उपस्थित थे।

      कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री ने जन्मदिवस के अवसर पर माननीय प्रधानमंत्री को बधाई देते हुए कहा कि आज का विशेष कोरोना टीकाकरण अभियान के दौरान सर्वाधिक टीकाकरण माननीय प्रधानमंत्री को राज्यवासियों की ओर से गिफ्ट होगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत अच्छा काम हो रहा है। सब चीजों पर ध्यान दिया जा रहा है। कोरोना की रोकथाम को लेकर सरकार का लगातार प्रयास जारी है। टेस्टिंग और वैक्सीनेशन दोनों बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की सक्रियता से बिहार में अब मात्र 71 एक्टिव मरीज हैं। एक समय तो एक्टिव मरीजों की संख्या 54 हो गयी थी। बाढ़ प्रभावित नागरिकों को टीका लगाने एवं उनकी टेस्टिंग के लिए स्वास्थ्य विभाग की प्रशंसा की। साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार के आपसी सहयोग से राज्य में 72 पीएसए ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट सूबे के विभिन्न अस्पतालों में लगाये गये हैं। इनमे 38 प्लांट पीएम केयर फंड और 34 प्लांट राज्य सरकार के संसाधन से अधिष्ठापित किया गए हैं। इससे आने वाले संभावित तीसरी लहर के साथ-साथ अस्पताल में भर्ती अन्य मरीजों को भी लाभ मिलेगा। 

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री के जन्मदिन के अवसर पर टीकाकरण का जो लक्ष्य हमने निर्धारित किया था, वह माननीय मुख्यमंत्री के कुशल मार्गदर्शन में हमने प्राप्त करने का काम किया है। 17 सितंबर को बिहार ने पूरे देश में सर्वाधिक टीकाकरण किया है। अभी तक राज्य में लगभग चार करोड़ 96 लाख लोगों को टीका दिया जा चुका है। इस उपलब्धि के लिए श्री पांडेय ने सभी चिकित्सकों एवं स्वास्थ्यकर्मियों को बधाई देते हुए कहा कि महाभियान में लगभग 14 हजार 500 सत्र संचालित किये गये थे, जो पूरे देश में एक दिन में टीकाकरण के लिए संचालित सत्रों की संख्या में सर्वाधिक है। राज्य में अभी कोरोना के एक्टिव केस की संख्या मात्र 71 है और सरकार इसे और कम करने के लिए प्रयासरत है। स्वास्थ्य विभाग राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर करने के साथ-साथ मानव बलों की भी लगातार नियुक्ति कर रहा है। राज्य में 2024 सामान्य चिकित्सकों की नियुक्ति की गयी है और आने वाले कुछ दिनों में 900 और चिकित्सक सरकार द्वारा बहाल किये जायेंगे। नौ महीनों में 20 हजार 200 नर्सों को बहाल किया जायेगा। सिवान और जमुई में नए मेडिकल कॉलेज स्थापित किये जायेंगे। सिवान में कार्यारंभ एवं जमुई में शिलान्यास का कार्यक्रम माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा होगा।

कोई टिप्पणी नहीं