तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय स्नातकोत्तर हिंदी विभाग में मनाया गया हिंदी दिवस साथ ही साथ साहित्य सेवी तारकेश्वर प्रसाद की लिखी” एक अनकही कथा” पुस्तक का भी हुआ लोकार्पण!



आज स्नातकोत्तर हिन्दी विभाग, तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय द्वारा माननीया कुलपति प्रो (डॉ) नीलिमा गुप्ता, प्रतिकुलपति प्रो (डॉ) रमेश कुमार एवं महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय के

प्रो (डॉ) कृष्ण कुमार सिंह की गरिमामयी उपस्थिति में स्नातकोत्तर हिंदी विभाग में मनाया गया हिंदी दिवस सामूहिक रूप से सब ने दीप प्रज्वलन कर इस कार्यक्रम की शुरुआत की फिर हिंदी विभाग की छात्राओं ने कुल गीत की प्रस्तुति दी उसके बाद अपने उद्बोधन में कुलपति डॉक्टर प्रोफेसर नीलिमा गुप्ता ने कहा हिंदी अपने आप में एक अनूठी भाषा है इससे प्यारी भाषा हो ही नहीं सकती है लगभग 200 विश्वविद्यालयों में अभी हिंदी भाषा की पढ़ाई हो रही है वहीं दूसरी ओर कार्यक्रम में तारकेश्वर प्रसाद के द्वारा लिखी गई

पुस्तक का विमोचन हुआ!साहित्य सेवी तारकेश्वर प्रसाद : एक अनकही कथा’ का लोकार्पण मैं सारे पदाधिकारियों ने एक साथ पुस्तक का विमोचन किया!


मुख्य वक्ता के रूप में प्रो. (डॉ) योगेंद्र, अध्यक्ष, हिन्दी विभाग ;

तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय भी वहां उपस्थित थे!

वही तारकेश्वर प्रसाद ने कहा डॉ योगेंद्र के कारण ही ये संभव हुआ | उन्हें धन्यवाद नही दे सकता, वे बड़े भाई हैं !

कोई टिप्पणी नहीं