विजय रुपाणी के बाद कौन बनेगा गुजरात का नया सीएम? बीजेपी विधायक दल की बैठक आज



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल जब अहमदाबाद के विश्‍व पाटीदार समाज के सरदार धाम का लोकार्पण किया तो उस समय किसी को खबर भी नहीं थी कि गुजरात की राजनीति में शनिवार का दिन एक बड़ा बदलाव लेकर आएगा. बीजेपी के संगठन मंत्री बीएल संतोष जब गांधीनगर पहुंचे और उन्‍होंने प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल और प्रदेश प्रभारी रत्नाकर से मुलाकात की तो हर किसी को यही लगा कि बीजेपी ने विधानसभा चुनाव की तैयारी अब तेज कर दी है. कुछ ही देर बाद खबर आई कि गुजरात के सीएम विजय रुपाणी डिप्टी सीएम नितिन पटेल के साथ राज्यपाल से मिलने पहुंचे हैं. उस समय भी हर कोई यही कयास लगा रहा था कि चुनाव को देखते हुए मंत्रीमंडल का विस्‍तार होने जा रहा है. हालांकि जब विजय रुपाणी राज्यपाल से मिलकर लौटे तो गुजरात की राजनीति में बड़े बदलाव के संकेत मिलने लगे. शाम होते-होते विजय रुपाणी ने सीएम पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया.

गुजरात में विधानसभा चुनाव होने में अभी एक साल का समय है. ऐसे समय में सत्‍ता परिवर्तन को लेकर राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है. कुछ लोगों को कहना है कि पाटीदार समाज की नाराजगी को देखते हुए ही रुपाणी को कुर्सी छोड़नी पड़ी है तो कुछ मानते हैं कि रुपाणी के लाइमलाइट और प्रचार से दूर रहने की आदत ने ही उसे सीएम की कुर्सी से उतार दिया है. बीजेपी आलाकमान को लगता है कि रुपाणी गुजरात में अपनी पकड़ कमजोर करते जा रहे हैं. पिछले चुनाव में 99 के फेर में फंसी पार्टी इस बार कोई गलती नहीं करना चाहती है. पार्टी ने अभी से जनता की नब्‍ज टटोलना शुरू कर दिया है. यही कारण है कि गुजरात की राजनीति में इतना बड़ा बदलाव देखने को मिला है.

कोई टिप्पणी नहीं