कुंडहित में भारत बंद का दिखा मिलाजुला असर, यातायात रही पूर्णतया बाधित



कुंडहित (जामताड़ा )सोमवार को विपक्षी पार्टियों ने केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ कुंडहित बाजार में रैली निकालकर निजी प्रतिष्ठान, सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालय को बंद कराया। साथ ही दुमका-आसनसोल मुख्य मार्ग स्थित बरमसिया मोड़ के समीप सड़क जाम कर विरोध जताया। कृषि कानून के विरोध में जमकर नारेबाजी की। साथ ही महंगाई, बिजली बिल, पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस के बढ़ते दामों को लेकर  नाराजगी जताई। सड़क जाम के दौरान वाहनों की लंबी कतार लग गई ।उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानून के विरोध में किसान संगठनों की ओर से आहूत व विपक्षी दलों के समर्थित भारत बंद का ऐलान किया गया था। सोमवार को कुंडहित में भारत बंद का मिलाजुला असर दिखा। कुंडहित में बंद के समर्थन में विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया। इसी क्रम में रैली निकालकर दुकानों व प्रतिष्ठानों को बंद कराया गया। वही बैंक, डाकघर सहित सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालयों को भी कार्यकर्ताओं ने बंद करा दिया। सड़क पर यातायात भी पूर्णतया बंद रही। कांग्रेस, भाकपा, भाकपा माले, राजद, झामुमो आदि संगठनों के लोग बंद को सफल बनाने में शामिल हुए। रैली के दौरान केंद्र सरकार से नए कृषि कानून को रद्द करने की मांग कर सरकार विरोधी नारे लगाए गए। मौके पर झामुमो प्रखंड अध्यक्ष जयश्वर मुर्मू, झामुमो प्रखंड सचिव मनोरंजन सिंह, भोलानाथ पाल, विश्वनाथ धीवर, कांग्रेस नेत्री पूर्णिमा धर, मदनलाल डोकानिया, शमशुल हक, सीपीआई अंचल सचिव गौर रवानी, रत्नाकर माजी, भाकपा माले प्रखंड सचिव सोमलाल मिर्धा, अनाउल अंसारी, आशा मिर्धा, ममता राणा, आनंद मुर्मू, सीपीआईएम जिला कमिटी सदस्य सुकुमार बाउरी सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं