डीएवी कास्टर टाउन, देवघर में इंटर हाउस अंग्रेजी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन



देवघर।दिनांक 11 सितंबर को गीता देवी डीएवी पब्लिक स्कूल कास्टर टाउन, देवघर में बच्चों के बौद्धिक विकास हेतु इंटर हाउस अंग्रेजी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसका विषय ' सेल फोन आधुनिक युग में एक वरदान है '  रखा गया था। इसमें कक्षा सातवीं के बच्चों ने उत्साह पूर्वक अपनी हिस्सेदारी निभाई। निर्णायक मंडली में शामिल प्रोफेसर डॉ. अंजनी शर्मा (विभागाध्यक्ष, अंग्रेजी) देवघर कॉलेज देवघर, डॉक्टर सुरेश कुमार नायक प्राचार्य देव संघ नेशनल स्कूल देवघर, विद्यालय के प्राचार्य श्री कृष्ण कुमार सिंह तथा कार्यक्रम की निर्देशिका कुसुम व पूजा झा ने सम्मिलित रूप से दीप प्रज्वलित कर इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया। प्राचार्य महोदय के द्वारा अतिथियों के लिए स्वागत भाषण एवं बच्चों द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। क्रमशः प्रत्येक हाउस से दो-दो बच्चे इस प्रतियोगिता में शामिल हुए। जिनमें एक पक्ष में और दूसरा विपक्ष में रहे। दयानंद हाउस से सानिका सिंह (पक्ष) शांभवी सिंह (विपक्ष) अरबिंदो हाउस से रानी कुमारी (पक्ष )स्पर्श वर्मा (विपक्ष) विवेकानंद हाउस से आराध्या कुमारी (पक्ष )प्रशांत आनंद( विपक्ष) और श्रद्धानंद हाउस से रानू शांडिल्या ( पक्ष) सोहानी कुमारी (विपक्ष) ने अपनी प्रतिभा का शानदार प्रदर्शन किया। डॉ. अंजनी शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि डी.ए.वी प्राच्य और पाश्चात्य संस्कृति का सम्मिलित रूप है। यह संस्था बच्चों को सुसंस्कृत एवं योग्य बनाकर देश की जड़ को मजबूती प्रदान करती है। डॉ. सुरेश कुमार नायक ने बच्चों की प्रत्येक एक्टिविटी को प्रशंसनीय बताते हुए सफलता के कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा की। साथ ही उन्होंने कहा कि कड़ी मेहनत और आत्मविश्वास से किसी भी प्रतिस्पर्धा को जीता जा सकता है। इस प्रतियोगिता में श्रद्धानंद हाउस को प्रथम दयानंद हाउस को द्वितीय विवेकानंद हाउस को तृतीय तथा अरबिंदो हाउस को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। प्राचार्य एवं अतिथियों के द्वारा सफल प्रतिभागियों को मेडल, ट्रॉफी एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।मौके पर उपस्थित प्राचार्य श्री कृष्ण कुमार सिंह ने उपर्युक्त विषय में पक्ष और विपक्ष के सभी प्रतिभागियों की प्रतिभा को सराहनीय बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि वाद -विवाद प्रतियोगिता छात्रों में आत्मविश्वास को विकसित करती है। इससे जीवन में सकारात्मक विचार, तर्कशीलता तथा चिंतनशीलता का विकास होता है। बच्चों को भाषण की तीव्रता और लयबद्धता का सदैव ख्याल रखने की सलाह भी दी। सी.सी.ए कोऑर्डिनेटर ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से बच्चों में तर्क शक्ति तथा भाषण कौशल का विकास होता है। अंत में प्राचार्य कृष्ण कुमार सिंह ने निर्णायक के रूप में उपस्थित डॉ. अंजनी शर्मा व डॉक्टर सुरेश कुमार नायक को मोमेंटो प्रदान कर सम्मानित किया। पूजा झा के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन एवं शांति पाठ से कार्यक्रम समाप्त हुआ।कार्यक्रम को सफल बनाने में पूजा झा, कुसुम, शिवानी बनिक, संगीता रानी, पूनम कुमारी, सुषमा शर्मा, श्यामा प्रसाद चटर्जी, रंजना कुमारी पाठक, निशा कुमारी सहित विद्यालय के सभी शिक्षकों एवं शिक्षिकाओं की अहम भूमिका रही। उक्त बातों की जानकारी मीडिया प्रभारी अमित कुमार सिंह ने दी।

कोई टिप्पणी नहीं