एसपी र्माइंस चितरा कोलियरी के विस्तारीकरण को लेकर उपायुक्त ने दिए कई महत्वपूर्ण दिशा निर्देश

 


उपायुक्त-सह-जिला दण्डाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में एसपी र्माइंस चितरा कोलियरी के विस्तारीकरण हेतु किये जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान उपायुक्त ने चितरा कोलियरी के विस्तारीकरण व राजस्व वृद्धि के अलावा विभिन्न अहम बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आपसी समन्वय के साथ बेहतर कार्य करने का निदेश दिया। साथ हीं जिला स्तर पर चितरा कोलियरी द्वारा बकाये को जल्द से जल्द भुगतान करने का निदेश महाप्रबंधक एसपी माईंस चितरा कोलियरी को दिया गया। उपायुक्त ने महाप्रबंधक एसपी माईंस चितरा कोलियरी को निदेश दिया कि डीड डॉक्यूमेंटशन से संबंधित सारी प्रक्रियाओं को पूर्ण कराते हुए जल्द से जल्द निर्धारित प्रपत्र में जिला के संबंधित कार्यालय को उपलब्ध कराए।

इसके अलावा बैठक के दौरान उपायुक्त श्री मंजुनाथ भजंत्री ने चितरा कोलियरी के अन्तर्गत खोन एवं तुलसीडाबर मौजा अंतर्गत भूमि हस्तांतरण, भूमि अधिग्रहण एवं मुआवजा देने की प्रक्रिया इत्यादि पर ई0सी0एल0 के महाप्रबंधक एव संबंधित विभाग के अधिकारी को आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश दिया। साथ हीं जमीन अधिग्रहण से संबंधित परिवारों को क्या सेवाएं देनी है, मुआवजे की राशि इत्यादि सारे कार्यों को संबंधित विभाग के साथ समन्वय स्थापित कर पूर्ण कर लेंने का निदेश संबंधित अधिकारियों को दिया गया। 

समीक्षा बैठक के क्रम में उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने ई0सी0एल0 के महाप्रबंधक को निदेशित किया कि जमीन अधिग्रहण हेतु इस बात की जानकारी अवश्य लें कि जमीन किस प्रकार का है, वो गोचर है, रैयती है, सरकारी है। इसमे किसी भी प्रकार की समस्या आने पर अनुमंडल पदाधिकारी मधुपुर, अंचलाधिकारी से समन्वय स्थापित कर इसका त्वरित समाधान करा ले। साथ हीं फोरेस्ट विभाग के अधीन जमीनों को क्लियरेंस हेतु जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी एव अंचलाधिकारी पालोजोरी से समन्वय स्थापित कर नो ऑब्जेक्शन सर्टीफिकेट प्राप्त कर ले। साथ ही सरकारी जमीन के अलावा फारेस्ट लैंड पर किसी भी प्रकार का घर बना हो तो उसे ध्वस्त करने हेतु भवन प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता से मिलकर उसका आकलन तैयार करा लें।

बैठक के दौरान उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने अवैध खनन, ओवरलोड व बिना चालान के वाहनों पर अब तक की गई कार्रवाई को लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया। साथ ही आपसी समन्वय के साथ आगे भी अवैध खनन को लेकर सख्त कार्यवाही करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। साथ ही कोलियरी क्षेत्र में वैसी जगहों पर जहाँ खनन का कार्य समाप्त हो गया है, उसे भरने का निदेश उपायुक्त द्वारा दिया गया।

समीक्षा बैठक के दौरान उपायुक्त  मंजूनाथ भजन्त्री द्वारा जानकारी ली गई कि देवघर जिला के विभिन्न प्रखंडों से कितने एकड़ सरकारी जमीनों का लीज एव बंदोबस्ती हेतु रेक्विजेशन प्राप्त हुआ है एवं वर्तमान में उपरोक्त रेक्विजेशन पर क्या कार्य हुआ है। उपायुक्त द्वारा इस संदर्भ में सबंधित अंचलाधिकारी एव राजस्व कर्मचारी को निदेश दिया गया कि सभी रेक्विजेशनो का जांच कराते हुए आगामी दिनांक-22.09.2021 तक जिला कार्यालय को रिपोर्ट उपलब्ध कराए।

इस दौरान उपरोक्त के अलावे अपर समहार्ता चन्द्र भूषण प्रसाद सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी मधुपुर  सौरव कुमार, भुवनिया, वन प्रमंडल पदाधिकारी, महाप्रबंधक एसपी माईंस (ईसीएल) चितरा, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी  उमाशंकर प्रसाद, जिला खनन पदाधिकारी  राजेश कुमार, प्रखंड विकास पदाधिकारी, पालोजोरी  शिवाजी भगत, एवं संबंधित विभाग व चितरा कोल माईंस के अधिकारी आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं