नारायणपुर प्रखंड में संचालित नर्सिंग होम और निजी क्लीनिक में ताबड़तोड़ छापेमारी



नारायणपुर(जामताड़ा): नारायणपुर प्रखंड में अवैध रूप से संचालित निजी क्लीनिकों का और नर्सिंग होम पर नकेल कसने के लिए स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासन ने मंगलवार को ताबड़तोड़ छापेमारी की।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में दर्ज शिकायत के आलोक में मंगलवार को जामताड़ा पुलिस अधीक्षक और सिविल सर्जन के के दिशानिर्देश पर नारायणपुर प्रखंड क्षेत्र में संचालित निजी नर्सिंग होम में स्वास्थ्य विभाग की टीम एवम पुलिस प्रसाशन ने छापेमारी की ।छापेमारी के दौरान अधिकांश स्थानों पर टीम को खामियां मिली।कहीं फ़र्जी चिकित्सक उपचार कर रहे थे तो कहीं बिना किसी प्रशिक्षण के एएनएम।अधिकांश नर्सिंग होम के पास संचालन करने संबंधित दस्तावेजों में खामियां पाई गई।


*इन नर्सिंग होम में हुई छापेमारी

पुलिस अधीक्षक एवम सिविल सर्जन द्वारा गठित टीम ने नारायणपुर प्रखंड मुख्यालय के हेल्थ पॉलीक्लिनिक, एमएस नर्सिंग होम, साक्षी नर्सिंग होम ,नारायणपुर नर्सिंग होम ,डॉ एमएम जामा क्लिनिक ,रामानंद मेडिकल, चैनपुर के  सभी क्लीनक, चम्पापुर के क्लीनक, मुस्कान ड्रग करमदाहा 


छापेमारी दल ने सर्वप्रथम नारायणपुर मुख्यालय स्थित हेल्थ पॉलीक्लिनिक में छापेमारी की जहां टीम को बिना डॉक्टर की डिग्री के एक व्यक्ति के द्वारा मरीज का उपचार करते हुए पाया गया जिस पर टीम ने नाराजगी जाहिर करते हुए संचालक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की प्रक्रिया कर रहे थे। छापेमारी के दौरान एमएस नर्सिंग होम में एक महिला का ऑपरेशन किया  हुआ पाया गया था ।जिसमें डॉक्टर के प्रिपकेशन में ना तो हस्ताक्षर थे न  नोट लिखा हुआ था ।वही जांच के दौरान उक्त नर्सिंग होम में कोई भी डॉक्टर ऑन ड्यूटी नहीं थे ।कुछ लड़कियां थी जो एएनएम  का कार्य कर रही थी लेकिन उनके पास भी कोई सर्टिफिकेट नहीं था।वहीँ मुख्यालय स्थित साक्षी नर्सिंग होम में एक गर्भवती महिला को प्रसव के लिए रखा गया था जांच टीम को एक नर्सिंग होम में ऑन ड्यूटी एक भी चिकित्सक नहीं मिले जबकि महिला को परिजनों ने सही करवाया था महिला प्रसव पीड़ा से परेशान थे टीम ने नाराजगी जाहिर करते हुए नर्सिंग होम संचालक से स्पष्टीकरण की मांग की गई।वहीँ  मुख्यालय स्थित नारायणपुर नर्सिंग होम में जांच टाला लटका हुआ पाया गया।डॉ एएमम जामा के क्लीनिक में भी जांच के दौरान ताला लटका हुआ था।


*क्या कहते है चिकित्सक

जाँच टीम में शामिल सीएचसी नारायणपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अरविंद कुमार दास ने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में दर्ज शिकायत के आलोक में प्रखंड क्षेत्र में संचालित नर्सिंग होम और निजी क्लीनिक में छापेमारी की गई छापेमारी के दौरान लगभग सभी निजी क्लीनिक एवम नर्सिंग होम में खामियां पाई गई ।कहीं फर्जी चिकित्सक कार्य कर रहे थे तो कहीं फर्जी है एएनएम। कहा कि साक्षी नर्सिंग होम एवम एमएस नर्सिंग होम में संसाधनों की घोर कमी है।नारायणपुर मुख्यालय स्थित बोली हेल्थ क्लीनिक के संचालक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की प्रक्रिया की जा रही है । जांच के क्रम में रामानंद मेडिकल में एसएम रफीक नामक एक व्यक्ति के द्वारा मरीजों का इलाज किया जा रहा था जिनके पास फर्जी डिग्री है।उनसे भी स्पष्टीकरण की मांग की गई है एवं चेताया गया है ।शेष को 24 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण मांगा गया है।माकूल जवाब नहीं मिलने पर सख्त कानूनी कार्रवाई हेतु उच्च स्तरीय अधिकारियों को रिपोर्ट भेजी जाएगी।


*जांच टीम में ये थे शामिल

डॉ मोहन कुमार, डॉ अरविंद कुमार दास, कार्यालय सहायक पंकज मंडल, एमपीडब्लू प्रफुल्ल रवानी ,सब-इंस्पेक्टर सुबोध यादव।

कोई टिप्पणी नहीं