डीएवी सातर में शिक्षक दिवस पर प्रतियोगिताएं आयोजित, गायन में दिव्यांशी व भाषण में शिवांगी ने मारी बाजी



देवघर।सातर रोड स्थित गीता देवी डीएवी पब्लिक स्कूल, भंडारकोला, देवघर में शिक्षक दिवस के अवसर पर छात्र-छात्राओं के मध्य कई ऑनलाइन प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। कक्षा एलकेजी एवं यूकेजी के छात्र छात्राओं के लिए राइटिंग कंपटीशन का आयोजन किया गया जिसमें नायरा शर्मा ,ऋषव राज एवं तृषा कुमारी क्रमशः प्रथम ,द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहे। प्रथम एवं द्वितीय के छात्र छात्राओं के बीच ग्रीटिंग कार्ड मेकिंग कंपटीशन का आयोजन हुआ जिसमें आद्या वर्मा प्रथम, केशवानंद पांडेय द्वितीय एवं वैदेही भारती ने तृतीय स्थान प्राप्त किए। तृतीय से पांचवी के छात्र छात्राओं के मध्य जीवन में शिक्षक की भूमिका विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें आर्या कुमारी प्रथम ,अमितांशी श्री द्वितीय एवं सौम्यदीप सिन्हा तृतीय स्थान पर रहे । कक्षा छठी से आठवीं के विद्यार्थियों के लिए गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें दिव्यांशी प्रथम, शौर्य पाठक द्वितीय एवं आरुषि ने तृतीय स्थान हासिल किए। कार्यक्रम के अंतिम कड़ी के रूप में कक्षा नवमी एवं दसवीं के विद्यार्थियों के बीच डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन दर्शन विषय आधारित भाषण प्रतियोगिता का आयोजन हुआ जिसमें शिवांगी सुमन ने प्रथम स्थान पर बाजी मारी। द्वितीय स्थान आयुषी संतोषी को मिला एवं तृतीय स्थान के लिए वैभव राज का चयन किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के प्राचार्य डॉ विजय कुमार ने सभी विजेताओं के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि शिक्षक त्याग व तपस्या, साधना व संकल्प, सिद्धांत और आचरण के प्रतिमूर्ति है जिन्होंने धरती को बिस्तर एवं आसमान को चादर बनाकर स्वयं झोपड़ियों में रहकर भी महलों के लिए सम्राट तैयार किए। शिक्षक की एक प्रेरणा जीवन में युगांत कारी परिवर्तन ला सकती है। इतिहास गवाह है कि विश्वामित्र- वशिष्ठ के बिना मर्यादा पुरुषोत्तम राम की, संदीपनी मुनि के बिना श्री कृष्ण की, गुरु द्रोण के बिना अर्जुन की, परशुराम के बिना कर्ण की, रामकृष्ण परमहंस के बिना स्वामी विवेकानंद की कल्पना तक नहीं कर सकते। कार्यक्रम को सफल बनाने में निर्णायक मंडली के रूप में चंद्र किशोर पंडित ,शिव शंकर  साह, सीमंत दत्ता, ब्रतती मुखर्जी अभिषेक सूर्य एवं पार्था गुहा की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

कोई टिप्पणी नहीं