पितृ पक्ष मेला नहीं लगने पर कारोबारी एवं पंडा जनों के समक्ष भुखमरी की नौबत



हिंदू धर्म की अगाध आस्था का प्रतीक पितृपक्ष मेले का आयोजन है जिसमें देश के कोने कोने से श्रद्धालु अपने पितरों के आत्मा की शांति के लिए पिंड दान करने भारी मात्रा में गया आते हैं जिसके कारण पंडा समाज और कारोबारियों को अच्छा मुनाफा होता है कोरोना संकट के कारण विगत वर्ष पितृपक्ष मेले का आयोजन नहीं हो पाया था इस वर्ष भी जिला प्रशासन द्वारा चुप्पी साधे जाने के कारण पंडा समाज और व्यापारियों में एवं दहशत व्याप्त है 17 दिनों तक के मेले में अनुमानित 100 करोड़ से अधिक का कारोबार होता है l  इस मेले में विदेश से भी तीर्थयात्री आते हैं l

पितृपक्ष मेला लगने का इंतजार गया पाल पुरोहित होटल व्यवसाय बर्तन व्यवसाई कपड़ा व्यवसाय ऑटो और रिक्शा चालक बस चालक आदि इंतजार करते रहते हैं जिससे उनकी गाड़ी कमाई होती है मेला में आए तीर्थयात्रियों का भी कारोबार से सीधा ताल्लुक रहता है यातायात में रेल बस और ऑटो कार का महत्वपूर्ण स्थान है 

किसी जमाने में 365 पिंड वीडियो पर हुआ करता था कर्मकांड जो अब लुप्त हो चुकी है उसमें से मात्र 55 से 60 पिंड बेदी बची है जहां पिंडदान ने अपने पितरों के मोक्ष के लिए पिंडदान करते हैं मेले को लेकर लोगों में अभी भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है क्योंकि पितृपक्ष मेले के आयोजन को लेकर अभी जिला प्रशासन की बैठक नहीं हुई है जबकि पितृपक्ष शुरू होने में अब कुछ ही दिन शेष हैं l

कोई टिप्पणी नहीं