समस्तीपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता,डबल मर्डर समेत कई मामलों हुआ खुलासा,8 कुख्यात गिरफ्तार।



समस्तीपुर में एक बार फिर बीते कई दिनों से अपराधियों का तांडव देखने को मिला। जिसके बाद मंगलवार को पुलिस अधीक्षक मानव जीत सिंह ढिल्लों के नेतृत्व में जिला स्तरीय एसआईटी टीम में कई मामलों का उद्भेदन कर लिया है। इसमें जिले के टॉप टेन अपराधियों में से कई कुख्यात अपराधियों को पुलिस की टीम ने धर दबोचा है। विगत अगस्त माह में जिले में हुई हत्या एवं लूट की घटनाओं के उद्भेदन तथा शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु जिला प्रशासन द्वारा एसआईटी का गठन किया गया था। गठित एसआईटी की टीम द्वारा लगातार मानवीय एवं तकनीकी अनुसंधान के आधार पर छापेमारी करते हुए अंतर जिला गिरोह की गिरफ्तारी में सफलता प्राप्त की है। पुलिस की टीम ने बीते 23 अगस्त को सुधा डिस्ट्रीब्यूटर से लूट कांड एवं हत्या, शंभू पट्टी में बीते 1 सितंबर को शंभू पट्टी स्थित एचपी गैस गोदाम में गोली मारकर लूट की घटना, ताजपुर के सीएसपी संचालक से तीन लाख 80 हज़ार की लूट सहित 20 आपराधिक मामलों ने इनकी संलिप्तता स्थापित हुई है। पुलिस की टीम ने समस्तीपुर जिले के टॉप टेन अपराधियों में शामिल जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के नीरपुर वार्ड 4 निवासी रामप्रसाद सिंह के पुत्र एवं कुख्यात अपराधी मनीष सिंह उर्फ़ राजा को उसके गैंग के साथ अपराध की योजना बनाते हुए गिरफ्तार किया है। टॉप टेन अपराधी में से एक मनीष सिंह उर्फ़ राजा की गिरफ्तारी के दौरान पुलिस की टीम ने उसके आधा दर्जन अपराधकर्मी साथियों को अपराध की योजना बनाते तीन अग्नेशास्त्र तथा सात कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है। इन सभी अपराधियों की गिरफ्तारी मनीष सिंह उर्फ़ राजा के निर्माणाधीन मकान से छापेमारी के दौरान की गई हैं।

गिरफ्तार अपराधियों से गहन पूछताछ के दौरान एसआईटी की टीम तथा डीआईयू की टीम द्वारा पूछताछ के दौरान कई अहम जानकारी मिली। जिसके आधार पर तकनीकी जाँच, सीसीटीवी फुटेज, मोबाइल से प्राप्त साक्ष्य आधार पर विभिन्न जिलों के करीब 20 आपराधिक मामलों ने इनकी संलिप्तता स्थापित हुई है। जिसके माध्यम से मुजफ्फरपुर जिले के दो लूट कांड, वैशाली जिले के पांच लूट कांड, समस्तीपुर जिले के बारह कांड, नालंदा जिले के एक लूट कांड, बेगूसराय जिले के एक लूट कांड, पटना जिले के एक लूट कांड का उद्भेदन हुआ है।

गिरफ्तार अपराधियों की पहचान समस्तीपुर जिले के उजियारपुर थाना क्षेत्र के निकासपुर निवासी शत्रुधन पासवान के पुत्र दीपक पासवान, मुफस्सिल थाना क्षेत्र के चक अशरफ गांव निवासी मुनेश्वर पासवान के पुत्र गोपाल पासवान, मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बाघी मुकुंदपुर निवासी सिंघेश्वर राय के पुत्र रामबाबू राय, मुसरीघरारी थाना क्षेत्र के मोरवा डीह निवासी प्रमोद झा के पुत्र सुजीत झा उर्फ सोनू मास्टर, मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट बोला निवासी विजय कुमार सिंह के पुत्र सूरज सिंह उर्फ बंटी, मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट थाना क्षेत्र के बेला गांव निवासी ललन कुमार सिंह के पुत्र निखिल गौरव, वैशाली जिले के सहदेई बुजुर्ग थाना क्षेत्र के रामपुर बघेल गांव निवासी कृष्ण कांत ठाकुर के पुत्र अंकित ठाकुर एवं नीरपुर वार्ड संख्या 4 निवासी रामप्रसाद सिंह के पुत्र राजा मनीष कुमार सिंह के रूप में की गई है। अपराधियों की गिरफ्तारी के दौरान छापेमारी टीम ने एक पिस्टल, दो कट्टा, सात कारतूस, तीन बाइक सुधा डिस्ट्रीब्यूटर लूट कांड का एक लाख चालीस हज़ार रूपये, एचपी गैस गोदाम लूट कांड से आठ हज़ार रूपये मोबाइल तथा तेघरा थाना क्षेत्र से लूटा गया सोने का चेन बरामद किया है। अपराधी घटना में शामिल कुख्यात मनीष उर्फ राजा द्वारा सिर्फ इस वर्ष में अब तक लूट के दौरान चार हत्या की गई है। जबकि कई अन्य लोग घायल हुए हैं। लूट के दौरान हत्या की घटना में दलसिंहसराय स्थित सुधा डिस्ट्रीब्यूटर के दो कर्मी, एल एंड टी फाइनेंस के एक कर्मी तथा बिंद थाना क्षेत्र में चेन छीनने के दौरान एक हत्या शामिल है। बीते वर्ष 2020 के नवंबर माह में ताजपुर थाना स्थित अषाढ़ी पोखर के पास सीएसपी संचालक की हत्या हुई थी। इन पांचों हत्याकांड में कुख्यात मनीष उर्फ राजा फरार चल रहा था, आखिरकार जिला प्रशासन की टीम ने धर दबोचा।

इन अपराधियों की गिरफ्तारी के दौरान पुलिस की टीम ने कुल 7 लूट कांड मामलों का उद्भेदन कर लिया है :

सुधा डिस्ट्रीब्यूटर लूट कांड एवं दोहरा हत्याकांड :

बीते 23 अगस्त को दलसिंहसराय क्षेत्र के एनएच 28 पर सुधा डिस्ट्रीब्यूटर से दिन में 1:00 बजे लूट के दौरान संचालक सुनील राय तथा उनके ड्राइवर मोहम्मद पप्पू की लूट के दौरान गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड के मुख्य सूटर मनीष उर्फ राजा अंकित ठाकुर एवं निखिल गौरव को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही घटना में सहयोगी रामबाबू, सुजीत झा सहित अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी कर ली गई है। इस घटना में उपयोग की गई दो हथियार, लूटी गई रकम में से 1 लाख 40 हज़ार रुपये, घटना में इस्तेमाल की गई बाइक एवं मोबाइल की बरामदगी कर ली गई है। सभी के द्वारा अपनी संलिप्तता बताते हुए पूरी योजना का भी खुलासा किया गया है। अपराधियों से पूछताछ के दौरान यह स्पष्ट हुआ है कि तीन बाइक पर कुल 7 अपराधी घटना में शामिल थे।

साथ ही घटना के पीछे तीन चार अन्य लोगों की भूमिका पाई गई है। स्पष्ट हुआ है कि रक्षाबंधन का अगला दिन इसलिए चुना गया था कि रक्षाबंधन के दिन दूध से बनी मिठाइयों की अधिक बिक्री होगी। इसीलिए बिक्री का ज्यादा रुपैया इकट्ठा हुआ होगा। सुधा लूट कांड एवं हत्या के उद्भेदन के दौरान पुलिस की टीम ने मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर बागी गांव निवासी एवं आशीष इंटरप्राइजेज के संचालक रामबाबू कुमार को गिरफ्तार किया है। जो कि मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर बागी गांव निवासी है। इसके पास से तीन मोबाइल फोन बरामद की गई है। जांच के दौरान या स्पष्ट हुआ है कि अधिकांश घटनाओं के लिए फर्जी नाम एवं पता पर सिम कार्ड संचालक रामबाबू कुमार द्वारा ही उपलब्ध कराया जाता था। प्रत्येक घटना के बाद अपराधियों को नया सिम उपलब्ध कराया जाता था। इसी गांव के अरुण कुमार सिंह के पुत्र पंकज कुमार सिंह है जिनके दलान में बाहरी अपराधी जमा होते थे। इन दोनों द्वारा इस ग्रुप को सिम के अतिरिक्त आश्रय तथा मुंगेर से हथियार लाने में सहयोग दिया जाता था। फिलहाल पुलिस की टीम द्वारा पंकज को गिरफ्तार नहीं किया जाए पाया है। उसके लिए अभी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है।

शम्भूपट्टी स्थित एचपी गैस गोदाम में लूटपाट एवं गोलीबारी :

बीते 1 सितंबर को दिन के करीब 12:00 बजे दो बाइक पर सवार चार अपराधियों द्वारा लूट की घटना को अंजाम दिया गया था। इस घटना का उद्भेदन तथा शामिल अपराधी मनीष सिंह, गोपाल पासवान एवं निखिल की गिरफ्तारी कर ली गई है एवं लूटी गई रकम में से करीब आठ हज़ार रुपये भी बरामद कर लिया गया है। सभी अपराधियों की तकनीकी रूप से घटना स्थल पर उपस्थित स्थापित हुई है।

ताजपुर में सीएसपी संचालक से 3.80 लाख रुपए लूट की घटना :

बीते 20 जुलाई को ताजपुर में हुई सीएसपी संचालक से 3.80 लाख रुपए लूट की घटना का भी खुलासा कर लिया गया है। बीते 20 जुलाई को बाइक सवार अपराधियों द्वारा फायरिंग करते हुए लूट की घटना को अंजाम दिया गया था। घटना में शामिल मनीषा एवं अंकित ठाकुर की गिरफ्तारी हुई है घटना का लाइनर सुजीत झा उर्फ मास्टर की भी गिरफ्तारी हो गई है। इस घटना में शामिल अन्य अपराधी धीरज हाजीपुर का है। पूर्व में पकड़ा कर हाजीपुर जेल में है। घटना में शामिल एक अपराधी राहुल सिंह अभी भी फरार चल रहा है।

नालंदा बिंद थाना क्षेत्र में चेन लूट एवं हत्याकांड :

बीते 30 अगस्त को एक व्यवसाई से चेन छीनने के लिए मनीष तथा नीतीश द्वारा उस व्यवसाई की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।.इस घटना का उद्भेदन हो गया है घटना में लूटा गया। सोने के चेन को ताजपुर में सोना दुकान में बेच दिया गया था। सोना बेचने में दो सहयोगी गोपाल पासवान तथा दीपक पासवान की भी गिरफ्तारी कर ली गई है। इस घटना में मनीष द्वारा चलाई गई गोली से पीड़ित की मृत्यु हो गई है। साथ ही उस गोली से मनीष के साथ ही साका उर्फ नीतीश को भी गोली लगी है। जो चोरी-छिपे पटना में इलाज करा रहा था। अनुसंधान के क्रम में उस अस्पताल की पहचान मातृ छाया ऑर्थो, पीसी कॉलोनी कंकड़बाग अस्पताल के रूप में हुई है। इस बिंदु पर अलग से अनुसंधान किया जा रहा है।

चिकनौट बलिगांव थाना स्थित किराना दुकान से लूट :

बीते जनवरी 2021 में हुई इस घटना में शामिल दो अपराधी गिरफ्तार हुए हैं तथा लाइनर सहित दो अन्य की पहचान हुई है जिसके लिए छापेमारी की जा रही है।

गढ़िया चौक पूसा में 40 हज़ार रूपये की लूट :

बीते फरवरी माह में घटना हुई थी। जिसमें एक महिला से रुपए की लूट की गई थी। घटना में शामिल मुसरीघरारी थाना क्षेत्र के गंगापुर निवासी राजा पटेल हथियार के साथ जेल भेज दिया गया है. इस घटना में शामिल मनीष फरार चल रहा था। लाइनर की पहचान विकास कुमार के रूप में हुई है।

सेहदई ओपी फाइनेंस कर्मी से लूट व फायरिंग :

बीते 6 अगस्त को यह घटना हुई थी। गिरोह द्वारा या घटना इस घटना को अंजाम दिया गया था। घटना में मनीष उर्फ राजा तथा अंकित ठाकुर की पहचान की गई थी। घटना के पश्चात निकासपुर उजियारपुर में यह लोग छिप कर रह रहे थे। मनीष द्वारा चलाई गोली से पीड़ित की मृत्यु हो चुकी है। इन घटनाओं के अतिरिक्त कई लूट की घटनाओं जिसमें सुजावलपुर सकरा थाना क्षेत्र में सीएसपी कर्मी से लूट, हरप्रसाद पेट्रोल पंप जंदाहा में लूट, इमली चौक पर लूट कांड, बहुआरा पातेपुर किराना दुकान से लूट, गंगापुर मुसरीघरारी से समूह कर्मी से लूट, काजीचक से बाइक से लूट। इन सभी लूट कांडों का उद्भेदन करते हुए कुल 8 अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है। साथ ही इसमें शामिल कई अन्य अपराधियों एवं लाइनर की पहचान हुई है। जिनकी गिरफ्तारी हेतु संबंधित जिलों की टीम को सूचित कर दिया गया है एवं इसके लिए छापेमारी की जा रही है। 

पुलिस की टीम से अनुसंधान एवं छापेमारी टीम का नेतृत्व पुलिस अधीक्षक मानव जीत सिंह ढिल्लों कर रहे थे। पुलिस की टीम से सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रीतीश कुमार, दलसिंह सराय अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी दिनेश पांडे, सदर अंचल के विक्रम आचार्य, मुफस्सिल थाना अध्यक्ष प्रवीण कुमार मिश्रा, दलसिंहसराय थाना अध्यक्ष कुमार बृजेश, नगर थाना अध्यक्ष अरुण राय, दलसिंहसराय थाना के नन्द किशोर यादव, मुफस्सिल थाना के केसी भारतीय, डीआयु के अनिल कुमार, डीआयु संदीप पाल, उजियारपुर थाना अध्यक्ष विश्वजीत कुमार ताजपुर थाना अध्यक्ष बृजेश कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना के परशुराम सिंह, दलसिंहसराय थाना के विनय कुमार एवं डीआयु के अखिलेश कुमार एवं अरविंद कुमार सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने अहम भूमिका निभाते हुए सभी अपराधियों की गिरफ्तारी एवं छापेमारी में योगदान दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं