रात के अंधेरे में चल रहा था अवैध कीमती लकड़ियों का गोरखधंधा, बन विभाग ने की बड़ी कारवाई,30 पीस सखुआ प्रजाति के लकड़ी के साथ 407 पिकअप वैन को किया जप्त,ट्रक चालक हुआ फरार



दुमका  शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र में रात के अंधेरे में होने वाले काले कारनामों किसी से छुपे हुए नही है यहां माफियाओं का इतना दबदबा रहता है कि किसी की भी नही सुनते है रात होते ही कोयला, बालू से लेकर कीमती लकड़ियों का भी गोरखधंधा बेतहासा चलना सुरु हो जाता है पत्थर उद्योगिक छेत्र होने की वजह से पूरे राज्य में शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र हमेशा चर्चित रहता है और काले कारनामों को अंजाम देने वाले लकड़ी माफिया  इतने बेखौफ होकर अपने काम को अंजाम देते है कि मानो प्रसासन इनकी जेब में हो झारखंड बंगाल सिमा में मलूटी के रास्तों से बालू कोयला और लकड़ी की तस्करी रात भर होती रहती है स्थानीय लकड़ी तस्कर और बंगाल के बड़े बड़े बालू माफिया से लेकर कोयला तस्कर के बिख्यात माफिया भी सामिल है पूरे इलाके के जंगलों में रात होते ही ट्रकों का लाइन लग जाता है और रात भर काले कारनामे चलते रहते है हैरान कर देने वाली बात यह है कि बालू और लकड़ी माफिया इतने हावी हो गए है कि लूड़ी पहाड़ी पुलिस चेक पोस्ट को भी बड़ी आसानी से पास कर लेते है बीती रात को शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के खिजुरिया में देर रात को वन विभाग ने एक पिकअप वैन गाड़ी न0 WB53 1819 को जप्त किया है जिसमें 30 पीस सखुआ प्रजाति का कीमती लकड़ी लोड था वन विभाग को देखते ही लकड़ी माफिया और ट्रक चालक फरार हो गया फिलहाल वन विभाग की टीम जांच में जुटी हुई है

कोई टिप्पणी नहीं