अंबा में एआईकेएस ने प्रधानमंत्री एवं हरियाणा के मुख्यमंत्री का फूंका पुतला ,किया विरोध प्रदर्शन।



कुंडहित (जामताड़ा):झारखंड राज्य किसान सभा के आव्हान पर पिछले दिन हरियाणा के करनाल में मनोहर लाल खट्टर सरकार की बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज से हुए किसान नेता सुनील काजल की मौत के विरोध में  सोमवार को  प्रखंड के अम्बा गाँव में कुंडहित लोकल कमिटी के द्वारा सुकुमार बाउरी के नेतृत्व में विरोध सभा का आयोजन किया गया ।इस विरोध सभा में उपस्थित लोगों ने खट्टर सरकार की और मोदी सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी करते हुए कहा कि  केंद्र की मोदी सरकार और उनकी इशारे पर चल रहे हरियाणा के भाजपानीत मनोहर लाल खट्टर की सरकार किसानों के आंदोलन को कुचलने के लिए बर्बरता पूर्ण रूप अख्तियार कर रहा है। जबकि किसान शांतिपूर्ण तरीके से तीनों कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। बर्बरता लाठीचार्ज के दौरान कई  किसान गंभीर रूप से घायल हो गए और सुनील काजल का मौत भी हो गया। वे शहीद हो गए । कहा कि विगत 9 महीने से देशभर के किसान मोदी सरकार की किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन चला रहे हैं ।कहीं किसी भी प्रकार की हिंसा की बात ही नहीं है ,लेकिन इस आंदोलन से भयभीत मोदी सरकार एवं उनके इशारे पर काम कर रहे भाजपा नीत राज्य सरकार ने भी इस आंदोलन को दबाने का पूरा प्रयास कर रहा है। अखिल भारतीय किसान सभा के कुंडहित लोकल कमेटी के सचिव तथा जामताड़ा किसान काउंसिल के जिला कमेटी सदस्य सुकुमार बाउरी ने कहा कि जनविरोधी, किसान विरोधी मोदी इशारे पर चलने वाले खट्टर  सरकार की बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज की कड़ी निंदा की जाती है और  विरोध जताने के लिए आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एवं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला दहन भी किया जा रहा है, उन्होंने आगे यह भी कहा कि जब तक तीनों कृषि कानून की वापसी नहीं होगी। संयुक्त किसान मोर्चा के द्वारा चलाए जा रहे विरोध आंदोलन को समर्थन में हम हमेशा सड़क पर मौजूद रहेंगे ।मौकेमौके पर माणिक ठाकुर,घनश्याम गोराई, चंडी डोम,राजू डोम,काजल बाद्यकर,मागाराम डोम, दिनमय भंडारी,साधन बागति,गणेश बागति,निरेन बागति,पालान बागति आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं