सात दिवसीय शिविर के चौथे दिन वन प्रमंडल पदाधिकारी,राजकुमार साह एवं वन क्षेत्र पदाधिकारी, एस डी सिंह के नेतृत्व में वृक्षारोपण कार्यक्रम का किया आयोजन



ए एस महाविद्यालय देवघर की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई 5 के द्वारा लगाए गए सात दिवसीय शिविर के चौथे दिन  वन प्रमंडल पदाधिकारी,राजकुमार साह एवं वन क्षेत्र पदाधिकारी, एस डी सिंह के नेतृत्व में वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया  ,साथ ही ग्रामीणों के बीच पौधों का वितरण किया गया । मौके पर, ग्रामीणों को संबोधित करते हुए  राजकुमर  साह ने  ग्रामीणों से अपील कि अधिक से अधिक पेड़ लगाएं और पर्यावरण को संतुलित एवं संरक्षित करने में अपना योगदान दें क्योंकि वृक्ष है तभी हमारा जीवन है।  एसपी सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक जिस तरह से पर्यावरण संरक्षण में बढ़-चढ़कर अपनी हिस्सेदारी देते हुए ग्रामीणों को जागरूक कर रहे है और ग्रामीण भी अपनी हिस्सेदारी इसमें सुनिश्चित कर रहे हैं,आने वाले दिनों में भारत की तस्वीर अवश्य बदलेगी। बौद्धिक सत्र मेंएस महाविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग की प्राध्यापिका डॉ पुष्प लता एवं अजय गुप्ता ने अपने प्रेरक भाषण से स्वयंसेवकों का ज्ञान वर्धन किया। डॉ पुष्प लता ने तनाव के कारण और निवारण पर बोलते हुए कहा के हम यदि चाहें तो अपने तनाव से बच सकते हैं जिसके लिए जरूरी है कि तनाव के कारणों को अपने विनाश का कारण नहीं विकास का कारण बनाए और जीवन में आने वाली हर चुनौती को स्वीकार करें। राष्ट्रीय सेवा योजना युवाओं में ऐसा ही आत्मविश्वास भरता है जिससे वह हर परिस्थिति का डटकर सामना कर सकें।  अजय गुप्ता ने कहा कि युवा वर्ग के लिए जरूरी है कि अपने जीवन का लक्ष्य स्पष्ट कर आगे बढ़ें जिसके लिए जरूरी है कि अपने कार्यों  की प्राथमिकता तय कर लें और योजनाबद्घ तरीके से आगे बढ़ें।शिविर निदेशिका सह कार्यक्रम पदाधिकारी भारती प्रसाद ने बताया कि चांदपुर गांव पर्यावरण के प्रति जागरूक हो रहा है ,आज ग्रमिनों ने न सिर्फ पौधे लगाए बल्कि उन्हें पेड़ बनाना का भी संकल्प लिया। मंच संचालन टीम लीडर राजेंद्र कुमार सावने किया।

 मौक़े पर जितेंद्र, अतुल, युवराज, प्रगति, कृष्णा,बादल, पल्लवी,संदली,पंकज, लवली,अंकित, अनमोल, अंजली, साक्षी, तनिष्का, प्रियंका, दीपसिखा,खुशी,मनीष,पल्लवी, चांदनी, रम्भा,शिवानी,अभिमन्यु,दीपक,मनीष,प्रदीप, सुलेखा, स्नेहा, अंनु, अंजलि, श्रावणी,नेहा,काजल,लॉरेंस, संतोष, लक्ष्मण ,सहित सैकड़ों स्वयंसेवक उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं