सारठ उपडाकघर में अवधि पूरा होने के बाद भी लोगों नहीं मिल रही है जमा राशि



सारठ : पुराना बाजार स्थित उपडाकघर में जमा राशि के मैच्योरिटी भुगतान के लिए लोगों को महीनों से डाकघर का चक्कर लगाना पड़ रहा है। मंगलवार को भी कई ग्रामीण पोस्ट आफिस में जमा किये पैसे के भुगतान लेने के लिए सारठ उपडाकघर पहुंचे हुए थे। जहां डाकपाल सोनी गुप्ता द्वारा आफिस का कंप्यूटर सिस्टम खराब होने की वजह से भुगतान की प्रक्रिया को पूरा करने में असमर्थता जताई गई। जिसके बाद डाक विभाग के ढुलमुल रवैये को लेकर मौजूद लोगों ने आक्रोश जताया। जमा राशि का परिपक्कता भुगतान नहीं मिलने से परेशान बामनगामा के गंहजोरी टोला निवासी मनोज सिंह ने बताया कि उन्होंने डाक विभाग की किसान विकास पत्र योजना में अपना पैसा जमा किया था। जिसकी समयावधि दिसंबर 2020 में ही पूरी हो चुकी है, बावजूद भी उन्हें अभी तक उनका जमा राशि  40,000 रुपए का भुगतान नहीं हो पाया है। वहीं सारठ के परसबनी टोला निवासी सुबास पंडित का राष्ट्रीय बचत पत्र योजना  में 40,000 रुपए  एवं खैरा गाँव निवासी सुखसागर मंडल का भी 15000  रुपए समेत कई लोगों का महीनों पूर्व समयावधि पूरा होने के बावजूद भी भुगतान नहीं हो पाया है और लोग अपने पैसे के भुगतान के लिए घर का काम-काज छोड़कर पोस्ट आफिस का चक्कर लगा रहे हैं। उक्त लोगों का कहना था कि एक तरफ जहां कोविड 19 को लेकर हुए लोकडॉउन के कारण पहले ही लोगों की आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है। वहीं ऊपर से अपने जमा पैसे नहीं मिलने से लोगों को अतिरिक्त कठिनाई झेलनी पड़ रही है। उनलोगों का कहना है कि मेहनत मजदूरी कर अपना पेट काटकर किसी तरह पैसा जमा किए थे ताकि जरूरत के समय उसका उपयोग किया जा सके। लेकिन सारठ उपडाकघर के मनमाने रवैये से पैसे की निकासी नहीं कर पा रहे हैं। वहीं इस संबंध

में पूछने पर डाकपाल सोनी गुप्ता ने बताया की मैं एक महीने पूर्व योगदान  की हूँ, जबकि पिछले डेढ़ वर्ष से डाकघर का कम्प्यूटर समेत अन्य सिस्टम खराब पड़ा हुआ है और भुगतान समेत डाक संबंधित अन्य कार्य लंबित पड़ा हुआ है। वहीं उन्होंने बताया कि इसको लेकर विभाग के वरीय अधिकारियों को लिखित जानकारी भी दे दी गई है और सिस्टम दुरुस्त होते ही सभी लंबित कार्य को पूरा किया जायेगा।

वहीं इस संबंध में  एसएसपी दुमका विमल किशोर से उनके मोबाइल पर सम्पर्क करने पर बताया गया कि सारठ उपडाकघर की समस्याओं की जानकारी मिली है। स्थिति की पूरी जानकारी के लिए एक विभागीय कर्मी को जांच करने के लिए भेजा गया है। पूरी जानकारी मिलते ही एक सप्ताह के अंदर सभी समस्याओं का समाधान कर लिया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं