ओबीसी और जातिगत जनगणना को सम्मिलित कराने हेतु पीएम के नाम डीसी को ज्ञापन सौंपा



देवघर। दिनांक 13 अगस्त को जिला उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री देवघर के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जनसंख्या जनगणना 2021 में ओबीसी समुदाय और जातिगत जनगणना को सम्मिलित कराने हेतु एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें जिक्र किया गया है कि यादव जाति देश की सबसे बड़ी मूल जाति है जो संपूर्ण भारतवर्ष में बहुसंख्यक में पाई जाती है आंतरिक गणना अनुसार जिसकी जनसंख्या करीब 22 करोड है जबकि मंडल कमीशन के अनुसार ओबीसी की संख्या अनुपात 52% है लेकिन इस पर कोई सरकारी आंकड़ा औपचारिक रूप से उपलब्ध नहीं है दो-दो 2018 में संसद से तत्कालीन गिरी  गृह मंत्री के द्वारा जातिगत जनगणना कराने की घोषणा की गई थी। अप्रैल में राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के द्वारा भी जनसंख्या जनगणना 2021 में ओबीसी समुदाय जातिगत जनगणना को सम्मिलित करने के लिए केंद्र सरकार से कहा गया था लेकिन जुलाई 2018 में आपके ही सरकार के गृह राज्य मंत्री के द्वारा इसे नही कराने की सरकार की परियोजना के बारे में संसद में बताया गया। जिसके कारण न केवल यादव जाति बल्कि संपूर्ण ओबीसी समाज आहत और नाराज हैं। उन्होंने बताया कि यादव समाज आपसे जनगणना 2021 में जातिगत और ओबीसी समुदाय के गन्ना कराने का निवेदन करती है और उम्मीद करती है कि देश की बहुसंख्यक ओबीसी समुदाय की चिंता को समझते हुए जल्द ही इस मांग को मान कर नए आदेश पारित करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं