भारतीय जनता पार्टी के द्वारा प्रखंड कार्यालय के समक्ष मानव श्रृंखला बनाकर किया विरोध धरना प्रदर्शन।



कुंडाहित(जामताड़ा):भाजपा प्रदेश के आदेश अनुसार पूरे झारखंड में हेमंत सरकार की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। मानव श्रृंखला बनाकर विरोध जताया जा रहा है। वही भारतीय जनता पार्टी कुंडहित इकाई की ओर से शनिवार को प्रखंड कार्यालय के समीप मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन किया गया। विरोध प्रदर्शन में दुमका लोकसभा के सांसद सुनील सोरेन, पूर्व कृषि मंत्री स्थानीय भाजपा नेता सत्यानंद झा बाटुल, जिला अध्यक्ष सोमनाथ सिंह, कार्यक्रम प्रभारी सह जिला उपाध्यक्ष अनूप यादव, कुंडहित मंडल अध्यक्ष सजल दास, बागडेहरी मंडल अध्यक्ष बनमाली मंडल, अरूप मंडल, कुंदन गोस्वामी, प्रदीप पैतंडी, राजू राय, हरीसाधन मंडल, परिमल मंडल, बाबन नायक, विकास भारती, सिद्धेश्वर रवानी, रवि बाद्यकर, सुकुमार नंदी, सहित सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता ने हिस्सा लिया। पार्टी की ओर से जारी बयान में आरोप लगाया गया है कि 

राज्य की विधि व्यवस्था चरमरा गई है। आम और खास कोई भी सुरक्षित नहीं है ।व्यवसाई, पत्रकार, चिकित्सक, अधिवक्ता, न्यायाधीश की हत्या हो रही है। महिला उत्पीड़न बहन बेटियों के साथ आए दिन बलात्कार की घटनाएं हो रही है ।परिजन बहन बेटियों को घर से बाहर भेजने में डरने लगे हैं ।सत्ता के संरक्षण में राज्य की खनिज संपदा की लूट मची है ।युवाओं, बेरोजगारों की दशा दयनीय है। राज्य की युवा शक्ति सरकार की वादा खिलाफी से हताश और निराश है,युवाओं बेरोजगारों में राज्य सरकार के खिलाफ भारी आक्रोश है, सरकार की नियोजन नीति के खिलाफ बेरोजगार आंदोलन करने की मजबूर है ,यह सरकार नौकरी देने में नहीं बल्कि छिनने में विश्वास करती है ।कोरोना काल में राज्य सरकार की विफलता ने सरकार की नीति और नियत को उजागर किया है। आज गरीब भूख से मरने को विवश है। सरकार की पुलिस बेगुनाहों पर जुर्म कर रही साथ ही सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वालों पर डंडे बरसाए जा रहे है। किसानों को उनके धान की कीमत नहीं मिल रही है। ऐसे हालात में भाजपा राज्य की दुर्दशा को चुपचाप नहीं देख सकती कोरोना काल में सोशल मीडिया के माध्यम से पार्टी ने सरकार की कमियों को उजागर किया है परंतु राज्य सरकार की लापरवाही निरंकुशता और जनविरोधी फैसले बढ़ते जा रहे हैं यह सरकार पूरी तरह से विकास विरोधी, आदिवासी, दलित, महिला, युवा विरोधी सरकार साबित हुई है पार्टी राज्य के वर्तमान हालात पर सड़क पर उतरने पर मजबूर है। इन सब बिंदुओं को लेकर राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन प्रखंड विकास पदाधिकारी को सौंपा गया।

कोई टिप्पणी नहीं