राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर सरकार गंभीर नहीं : बाबूलाल



सारठ : रविवार शाम को गिरिडीह से दुमका जाने के दौरान सारठ चौक पर भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी का विधायक रणधीर सिंह ने स्वागत किया। वहीं मौजूद पार्टी कार्यकर्त्ताओं ने बाबूलाल और रणधीर के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। पत्रकारों से बातचीत करते हुए बाबूलाल ने झारखंड में कानून व्यवस्था को लेकर हेमंत सरकार पर तीखा हमला बोला और सरकार को सिर्फ राजनीति करने और जनता को मुद्दों से ध्यान भटकाने की बात कही।  धनबाद में जज की हत्या के सवाल पर श्री मरांडी ने कहा कि राज्य में जज की हत्या से पहले एक वकील की भी हत्या हुई थी, साहिबगंज में महिला पुलिस अधिकारी रूपा तिर्की की हत्या हो चुकी है और सरकार कानून व्यवस्था को लेकर गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान लेने के बाद राज्य सरकार ने जज हत्याकांड की सीबीआई जाँच के लिए लिखा। वहीं उन्होंने कहा कि बोकारो से एक ठेका मजदूर और एक फल व्यापारी को पुलिस उसके घर से गिरफ्तार करके जेल भेज देती है और कहा जाता है कि ये लोग रांची के एक होटल से सरकार गिराने की साजिश कर रहे थे। सरकार के एक  विधायक इसे हवाला कारोबार करने तो एक विधायक करोड़ों का ऑफर देने की बात कहते हैं तो कभी सरकार के लोग कहते हैं कि सरकार को गिराने की साजिश चार महीने से चल रही है और इसकी जानकारी मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री को भी है। फिर भी सरकार मामले की उच्चस्तरीय जांच नहीं कराना चाहती है। बाबूलाल ने कहा कि उन्होंने भी सरकार को चिट्ठी लिखकर हाई कोर्ट के सुप्रीम जज की अध्यक्षता में एसआईटी गठित करके मामले की जांच की मांग कर चुके हैं, ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो, लेकिन सरकार चुप है। उन्होंने कहा कि सरकार जनता को विकास के मुद्दों से भटकाने के लिए हमेशा अनाप शनाप बयानबाजी करती है। वहीं पलामू की एक घटना का जिक्र करते हुए बाबूलाल मरांडी ने कहा कि बीते 25 मई को पलामू निवासी एक बुजुर्ग दंपति और चालक का अपहरण होता है, 26 मई को थाने में अपहरण का मामला दर्ज होता है, दो दिन बाद पलामू एसपी, डीएसपी के अलावे चैनपुर और नवा बाजार की पुलिस अपहृत बुजुर्ग दंपति के पुत्र के साथ अपहरण कर्त्ताओं को 10 लाख देने और अपहृत दंपति को छुड़ाने जाती है, लेकिन अपहरणकर्त्ता 10 लेकर चला जाता है और अपहृत दंपति को नहीं छोड़ते हैं, दो माह बीतने के बाद भी अपहृत दंपति बरामद नहीं हुआ है, ये कैसी कानून व्यवस्था है आप समझ सकते हैं। मौके पर विधायक रणधीर सिंह समेत दर्जनों पार्टी कार्यकर्त्ता व अन्य लोग मौजूद थे। वहीं स्थानीय दुकानदारों का कहना था कि आज वीकेंड लॉकडाउन है और राज्य के नेता बिना मास्क के लोगों की भीड़ लगाके भाषण दे रही है। हम पब्लिक ऐसा करेंगे तो पुलिस गिरफ्तार करती है, जुर्माना लगाया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं