किशोरियों को "राखी मेकिंग कार्यशाला"का आयोजन किया



देवघर। क्वेस्ट एलाइंस संस्था के  "आनंदशाला" कार्यक्रम के द्वारा पालोजोरी, मधुपुर ,देवघर और देवीपुर प्रखंड की किशोरियों को स्वनियोजित और आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जा रहा है।इसके तहत किशोरियों को "राखी मेकिंग कार्यशाला" 16 अगस्त 2021 से 18 अगस्त 2021 तक तीन-दिवसीय ऑनलाइन प्रशिक्षण हेतु  गूगल मीट एप पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। किशोरियों के आर्ट एंड क्राफ्ट के प्रशिक्षण के लिए बिहार की कंपनी "पेंटबॉक्स इंफ्रा एंड कंसलटेंसी प्राइवेट लिमिटेड" के प्रशिक्षक सुमित कुमार और अजय कुमार दास द्वारा बहुत ही बेहतरीन और सरल ढंग से यह प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस कार्यशाला में चारों प्रखंड से  संस्था के किशोरी क्लब से लगभग 400 किशोरियाँ तथा 56 गर्ल चैंपियन जुड़कर प्रशिक्षण लिया। कार्यक्रम के संचालन में क्वेस्ट एलाइंस संस्था की ओर से 15 विद्यालय सहजकर्ता  का महत्वपूर्ण योगदान रहा। इस ऑनलाइन कार्यशाला में कोरोनावायरस से सुरक्षा का ध्यान रखने के लिए किशोरियों को सामाजिक दूरी का पालन, मास्क का उपयोग एवं सैनिटाइजर का इस्तेमाल कराने हेतु इसकी जिम्मेदारी सभी आनंदशाला कार्यकर्ताओं ने लिया।

आनंदसाला कार्यक्रम जिला समन्वयक शीतांशु शर्मा  ने बताया कि आनंद शाला कार्यक्रम के तहत किशोरियों को घरेलू सामान से राखी बनाने का तीन दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें सभी किशोरियों ने बहुत ही सक्रिय रुप से  इस वर्कशॉप में हिस्सा लिया। इसमें प्रशिक्षण लेने के बाद गर्ल्स चैंपियन के द्वारा अपने गांव के किशोरी क्लब में वहां के किशोरियों को राखी बनाने का प्रशिक्षण देगी। इस तरह के प्रशिक्षण से किशोरियों में नेतृत्व क्षमता का विकास तथा जिज्ञासु प्रवृत्ति उत्पन्न होती है। कार्यक्रम सहायक जियाधर मंडल ने बताया कि इस तरह के प्रशिक्षण से  किशोरियों में  रचनात्मक शैली का विकास  तथा कुछ नई करने की प्रवृत्ति  उत्पन्न होती है। जिले के किशोरी क्लब के किशोरियों को आत्मनिर्भर और स्व- नियोजित करना और उनके कौशल विकास करना इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य था। किशोरियों का उत्साह इस कार्यशाला के प्रति अभूतपूर्व था। आगे भी उन लोगों को अलग-अलग  तरह का प्रशिक्षण आनंदशाला के द्वारा दिया जाएगा । मौके पर क्वेस्ट अलांयस संस्था से सुशांत पाठक ,शीतांशु, शाहिद,जियाधर,नम्रता, नलीनाक्षी, उर्वशी, के अलावा 15 स्कूल फैसलेलेटर मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं