शिक्षा मंत्री को दिया धन्यवाद, मांगा गृह जिला का तोहफा



देवघर / एकीकृत गृह जिला स्थानांतरण शिक्षक संघ के बैनर तले रांची में निवेदन सह धन्यवाद यात्रा का आयोजन रविवार को किया गया।  शिक्षकों ने सरकार के साकारात्मक रूख के लिए धन्यवाद दिया वहीं गृह जिला स्थानांतरण का तोहफा मांगा। गृह जिला स्थानांतरण को लेकर प्रदेश प्रभारी दिलीप कुमार राय एवं मुख्य प्रतिनिधि प्रेम प्यारे लाल के द्वारा एक ज्ञापन शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो को सौंपा गया। आवास के बाहर काफी संख्या में पहुंचे शिक्षकों की भावना का सम्मान करते हुए मंत्री जी अपने कार्यालय से बाहर निकले एवं शिक्षक- शिक्षिकाओं से बात किए। शिक्षक-शिक्षिकाओं द्वारा एक बार सामूहिक गृह जिला स्थानांतरण की मांग को दोहराया गया। 

शिक्षा मंत्री श्री महतो ने कहा कि नियुक्ति के समय की नियमावली का अध्ययन करते हुए आपकी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।

प्रदेश प्रभारी श्री राय ने कहा कि माननीय शिक्षा मंत्री जी गृह जिला स्थानांतरण को लेकर गंभीर हैं इसके लिए हम सभी धन्यवाद देने आए हैं।

बहुत जल्द गृह जिला स्थानांतरण होगा। हमारी नियुक्ति के समय नियमावली में प्रावधान था कि सेवा काल में शिक्षक अपने गृह जिले में जा सकते हैं । लेकिन 2019 कि नियमावली में इसे विलोपित कर दिया गया। सरकार को एक बार गृह जिला स्थानांतरण पर विचार करना चाहिए।

वहीं मुख्य प्रतिनिधि प्रेम प्यारे लाल ने कहा कि गृह जिला स्थानांतरण सरकार का  बहुत ही अच्छा कदम होगा।  वहीं मंत्री द्वारा यह पूछे जाने पर कि कुछ जिलों में शिक्षकों की संख्या कम हो जाएगी इसका समाधान कैसे होगा जिसपर श्री लाल ने कहा कि पारस्परिक स्थानांतरण के तहत शिक्षकों को स्थानांतरित करने से किसी जिले में एक भी शिक्षकों की कमी नहीं होगी। वहीं नियमावली में ऐसा प्रावधान शामिल करें ताकि धीरे-धीरे सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं का गृह जिला स्थानांतरण हो जाए। इनके अलावा शिक्षक कुंदन शाही ने नई नियुक्ति से पूर्व स्थानांतरण करने का आग्रह किया।

वहीं शिक्षिका लौली कुमारी, कौशल्या कुमारी ने कहा कि गृह जिला स्थानांतरण से शिक्षकों को जहां मानसिक तनाव से मुक्ति मिलेगी वहीं शिक्षा व्यवस्था और दुरूस्त होगा।

मौके पर शिक्षक कुंदन कुमार शाही, परिक्षित महतो, दीपक कुमार, रामकुमार झा, रविन्द्र कुमार तिवारी, अजय उरांव, रमन रंजन महतो, गुंजन मंडल, अंजनी कुमार, शमीम जावेद, आशुतोष कुमार, बसंत कुमार, प्रदीप कुमार, राजेंद्र प्रसाद, मनोज कुमार, विजय साहू, आशिष चन्द्रा, विक्टर विजय। समद, प्रमोद कुमार, मोहम्मद फिरोज, धीरेन महतो, शिव नारायण कुमार, किरण कुमारी, रितू कुमारी, राजेश तिवारी, बिनोद सिंह, कपूर महतो, पोखन महतो, ज्योति लकड़ा, सुमित्रा लकड़ा, प्रेम लता तिग्गा, रोजलीन एक्का, उमा जयसवाल,  आफताब आलम, अनिल कुमार, राम प्रकाश बड़ाईक, किशोर कुमार, बिक्रम दे, पोलिस गुप्त, कौशल्या देवी, शिला कुमारी, माधुरी पांडेय, बीणा शर्मा, रामेश्वरी सिंह, महेश जयसवाल, आश्रित इंदवार, अभिषेक शर्मा, सुनिता कुमारी, अजित कुमार, अवधेश कुमार, निलेश चंदन, संतोष झा, इमामूल खान, अब्दुल बुदुद, पुरुषोत्तम महतो, विमल साहू, गौरी शंकर, राजेश रंजन, रूपलाल महतो, ललन कुमार, अरदन मिंज, प्रणत पाल सिंह, मिथिलेश शर्मा,साहबुद्दीन, राकेश साह, इम्तियाज अहमद, समेत अन्य शिक्षक-शिक्षिका मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं