75वें स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएँ और बधाईः-माननीय मंत्री हफ़ीजूल हसन जी



75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर केकेएन स्टेडियम में आयोजित मुख्य समारोह में माननीय मंत्री श्री हफ़ीजूल हसन अल्पसख्यंक कल्याण, पर्यटन, कला संस्कृति, खेल-कूद एवं युवा कार्य, निबंधन विभाग, झारखण्ड सरकार द्वारा झण्डोतोलन किया गया। इस दौरान माननीय मंत्री ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि 75वें स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर तमाम प्रदेश वासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ एवं बधाई। जैसा की हम सभी जानते हैं कि शताब्दियों के परतंत्रता के उपरांत आज ही के दिन 15 अगस्त, 1947 को हमारा देश स्वतंत्र हुआ था। गुलामी का कोई काल खण्ड ऐसा नहीं था, जब हिन्दुस्तान में किसी कोने में आजादी के लिए प्रयास नहीं हुआ हो, प्राण अर्पण नहीं हुआ हो। विश्व के सबसे बडे लोकतांत्रिक देश भारतवर्ष के स्वतंत्रता संग्राम में खून-पसीना बहाने वाले सभी शहीदों को सतत् नमन। 

आज ये कहना गलत नहीं होगा कि ‘‘अलग-अलग प्रांत, अलग-अलग भाषा-किन्तु अपना एक भारतवर्ष देश’’। स्वतंत्रता दिवस के इस राष्ट्रीय पर्व पर अनेकता में इस एकता का दर्शन हम भारतवासियों को होता है। आज राज्य के सामने हजारों चुनौतियां हैं तो राज्य के पास लाखों समाधान देनेवाली शक्ति भी है। हमारे झारखण्डवासी ही हैं जो समाधान का सामर्थय देते हैं।

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के इस असाधारण समय में, सेवा परमो धर्म की भावना के साथ, अपने जीवन की परवाह किए बिना हमारे डॉक्टर्स, नर्सें, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस कर्मी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, सेवाकर्मी, समाजसेवियों के अलावा अनेकों लोग ने चैबीसों घंटे लगातार काम किया है। वहीं दूसरी ओर लाॅक डाउन के कारण हमारी दुनिया सिमटकर अपने घरों तक सीमित रह गयी। ऐसे में कोरोना संक्रमण के दूसरे लहर को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा इसके रोकथाम व बचाव को लेकर की गयी तैयारियों व सुविधाओं के इंतजाम सराहणीय रहे हैं। ऐसे में उपायुक्त श्री मंजूनाथ भजंत्री की अगुवाई में टीम देवघर द्वारा ‘‘टिकना है तो टीका लें’’ के नारे को चरितार्थ करते हुए स्वास्थ्य विभाग की टीम, आंगनबाड़ी सेविका/सहिया, जेएसएलपीएस की दीदियों, धर्म गुरूओं, पीडीएस डीलर, शिक्षक, पारा शिक्षक, कृषक मित्र, नगर निगम के कर्मी तेजस्वीनी क्लब, भोलेनाथ दूत, जनप्रतिनिधियों, समाज सेवी संस्था, समाज सेवियों के साथ जिला वासियों के सहयोग से इस दिशा में तीव्र गति से बेहतरीन कार्य किया गया।  


इसके अलावे इस संक्रमणकाल में टेक्नोलाॅजी का उपयोग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों के लिए ‘‘सुरक्षित गांव, हमर गांव’’ अभियान के अलावा शहरी क्षेत्र हेतु ‘‘स्वस्थ्य देवघर, सुरक्षित देवघर’’ अभियान का आयोजन कर लोगों को कोविड नियमों के अनुपालन व टीकाकरण के प्रति जागरूक करने का बेहतरीन कार्य किया गया। इसके अलावे टेक्नोलाॅजी का उपयोग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों के स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने के उद्देश्य से व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है, ताकि सभी 194 पंचायत में वैक्सीनेशन, कोविड टेस्टिंग, स्वास्थ्य व्यवस्था की निगरानी को लेकर (सुरक्षित गांव, हमर गांव) ग्रुप बनाते हुए पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों व कर्मियों को जोड़ा गया है, ताकि पंचायत स्तर की आवश्यकताओं को देखते हुए उसे त्वरित पूरा किया जा सके। 

■ फूड ग्रेन बैंक की स्थापना....

कोविड संक्रमण के दूसरी लहर में जिला प्रशासन द्वारा की गयी फूड ग्रेन की व्यवस्था अत्यंत सराहनीय रही, जिसके माध्यम से कोरोना संक्रमण काल में गरीब, असहाय व मजदूर तबके के लोगों को आवश्यकतानुसार उनके घर तक खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया ताकि लाॅकडाउन में अनाज को लेकर किसी परिवार को समस्या का सामना न करना पड़े। इसमें समाजसेवियों का सकारात्मक सहयोग प्राप्त हुआ।

■ कोविड टीकाकरण अभियान में सभी का सहयोग सराहनीय.....

कोरोना संक्रमण के रोकथाम को लेकर जिला प्रशासन की टीम और इसके कप्तान श्री मंजूनाथ भजंत्री की अगुवाई में शत-प्रतिशत कोविड टीकाकरण को लेकर टोला-टोला में टीकाकरण अभियान के तहत ‘‘टिकना है तो टीका लें’’ के नारे को चरितार्थ करते हुए बेहतर कार्यशैली का प्रदर्शन किया है। वहीं अभियान के तहत 101 वर्ष के बुजुर्ग छोटा जगदीश महतो के साथ-साथ 18 वर्ष तक के युवाओं ने जो सहयोग किया है वह सराहनीय है। 

देवघर जिले में शत प्रतिशत वैक्सीनेशन को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में टोला-टोला टीकाकरण अभियान व शहरी क्षेत्रों में मोहल्ला-मोहल्ला टीकाकरण अभियान का आयोजन किया गया। साथ हीं जिलावासियों को जागरूक करने के उद्देश्य से ‘‘सुरक्षित गांव, हमर गांव’’ अभियान के तहत लोगों को कोविड नियमों के अनुपालन एवं कोविड टीकाकरण के प्रति जागरूक करते हुए अपने प्रियजनों को टीकाकरण कराने के लिए लगातार प्रेरित किया गया, ताकि जिले में शत प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य जल्द पूर्ण किया जा सके। परिणाम स्वरूप जिला के कई पंचायत शत प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल हुए।


जिले के कामगारों को आत्मनिर्भर व सशक्त बनाने की दिशा में ऑनलाइन प्लेटफार्म Deoghar Mart की जल्द होगी शुरुआतः-

जिले के कामगारों एवं लघु-कुटीर उद्योग से जुड़े हुए लोगों को सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में Deoghar Mart के नाम से ऑनलाइन प्लेटफार्म को विकसित किया जा रहा है, जहाँ देवघर जिला अंतर्गत कई तरह के लघु एवं कुटीर उद्योग यथा- पेड़ा उद्योग, लोहारगिरी उद्योग, मिट्टी के बर्तन निर्माण, सिलाई-कढ़ाई, बंबू उद्योग, लाह चुड़ी व लहठी उद्योग, जेएसलपीएस की दीदियों द्वारा निर्मित समान के अलावा स्थानीय लोगों द्वारा निर्मित सामानों को सूचीबद्ध किया जा रहा है। साथ हीं विक्रय हेतु सामानों को बेहतर करते हुए उनके गुणवत्ता में सुधार एवं उनके बाजारीकरण की व्यवस्था सुनिश्चित करते हुए इन उद्योगों को राज्य, देश के साथ-साथ विश्व स्तर पर ख्याति दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

जिले में लोगों को साक्षर बनाने के साथ कन्या भू्रण हत्या, दहेज प्रथा, सफाई, शौचालय के ■ नियमित उपयोग के प्रति चलाया जा रहा अभियान सराहणीय....

जिले में निरक्षर लोगों को साक्षर बनाने पर विशेष अभियान का आयोजन किया जा रहा है, ताकि अभियान के माध्यम से सभी प्रखण्डों में 15 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को ‘‘पढ़ना-लिखना’’ कार्यक्रम से जोड़ा जा सके, ताकि सही मायने में अभियान को सफल बनाया जा सके। साथ हीं इस अभियान का मुख्य लक्ष्य निरक्षर विशेषकर महिला निरक्षर को बुनियादी साक्षरता उपलब्ध कराना है, ताकि लिंग असमानता को कम करने के साथ महिला एवं पुरुष साक्षरता दर असमानता को समाप्त करने का प्रयास किया जा सके। 

इसके अलावे तेजस्वीनी क्लब की सदस्यों, आंगनबाड़ी सहिया, सेविका, जेएसएलपीएस की दीदियों, जिले के सामाजिक संस्थाओं, समाजसेवियों के सहयोग से देवघर जिला अंतर्गत घटते लिंगानुपात, महिला सशक्तीकरण, दहेज प्रथा का कारण और निवारण, बेटा व बेटियों में असमानता के प्रति विशेष जागरूकता कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं, ताकि समाज से बेटे-बेटियों में असमानता की सोच को बदला जा सके और समाज से इन कुरीतियों को खत्म किया जा सके। 

■ कन्या भ्रूण हत्या व दहेज प्रथा को मुहिम बनाने की पहल....

आज बेटियों के प्रति सोच और नजरिया बदलने के साथ कन्या भू्रण हत्या, दहेज प्रथा को समाज से खत्म करने के उद्देश्य से उपायुक्त देवघर की पहल काफी सराहणीय और अनुकरणीय है।

मानवता एवं समानता की भावना से समाज में बेटियों के लिए व्याप्त लिंगभेद, कन्या भू्रण हत्या, प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से समाप्त करने के इस मुहिम मुहिम में जिला वासियों का सहयोग आपेक्षित है, ताकि समाज में व्याप्त बेटा-बेटी के भेदभाव को समाप्त करते हुए बेटियों को शिक्षित, सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से सभी को मिलजूल कर कार्य करने की आवश्यकता है। 

 वर्तमान में सबसे महत्वपूर्ण है कि देवघर जिले में घटते लिंगानुपात को संतुलित बनाने के लिए हम सभी को सजग और जागरूक रहने की आवश्यकता है, ताकि पूरी तत्परता के साथ बेटियों को परिवार के खुशहाली का आधार बनाया जा सके। आज इंसानियत के नाते हम सबों को अपने अंदर संस्कार का एक दीप जलाते हुए लिंग परीक्षण, कन्या भ्रूण हत्या, दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों को समाज से खत्म करने में अपनी भूमिका सुनिश्चित करेंगे। 

■ सभी के सहयोग से बाबा मंदिर व आस पास के क्षेत्रों को थर्मोकाॅल एवं प्लास्टिक मुक्त बनाने का अभियान सराहणीय....

बाबा मंदिर व मंदिर के आसपास के क्षेत्रों को पूर्ण रूप से थर्मोकाॅल एवं प्लास्टिक मुक्त क्षेत्र बनाने की मुहिम एक सराहणीय अभियान है। वहीं जिला प्रशासन के साथ-साथ पंडा व पुरोहित समाज के प्रबुद्ध लोगों की पहल अनुकरणीय है। हम सभी को स्वच्छ सुंदर व स्वस्थ्य देवघर बनाने में अपनी-अपनी भूमिका सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, ताकि माननीय मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन जी के विजन पर कार्य करते हुए झारखण्ड राज्य के सभी जिलों में विकास की एक नई गाथा लिखी जा सके। आज माननीय मुख्यमंत्री जी झारखण्ड राज्य को अलग पहचान देने की दिशा में लगातार कार्य कर रहे हैं। दूसरी ओर माननीय मुख्यमंत्री जी की अगुवाई में झारखण्ड राज्य के निरंतर विकास के लिए अगले 25 वर्षों की योजना पर सरकार कार्य कर रही है।


■ माननीय मंत्री हफीजुल हसन ने जिला अन्तर्गत विभिन्न विकास योजनाओं एवं कार्यक्रमों से जुड़ी विस्तृत जानकारी से सभी को अवगत कराया....

1.ग्रामीण विकास: 

  (I) महात्मा गाॅंधी राष्ट्रीय ग्रामीण रेाजगार गारंटी येाजना:-


   (क)   इस वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान देवघर जिले के अंतर्गत अबतक लगभग 81.00 करेाड़ रूपये व्यय कर 93016 परिवारों को रोजगार के अवसर प्रदान किये गये है तथा इसके माध्यम से लगभग 30.00 लाख मानव दिवस का सृजन किया गया है। 

             इस वित्तीय बर्ष कें अबतक 9538 योजनाऐं पूर्ण की जा चकी है तथा वत्र्तमान में 56400 योजनाऐं  कार्यशील/ निर्माणाधीन है।

            मनरेगा-श्रमिकों के मजदूरी भुगतान की प्रक्रिया में पारदर्शिता बरतते हुए विभागीय निर्देश/मापदण्ड के अनुरूप PFMS माध्यम से मजदूरी का भुगतान मजदूरों के बैंक खाते में किया जा रहा है। साथ ही, कार्यान्वित करायी जा रही योजनाओं में पारदर्शिता बरतने हेतु तीन चरणों में Geo Tagging किया गया है।

  (ख)  मनरेगा के तहत झारखण्ड सरकार की अति-महत्वाकांक्षी योजना (बिरसा हरित ग्राम योजना) के अंतर्गत 1217 कृषक लाभुक के कुल 1172.05 एकड़ भूमि पर  फलदार वृक्षारोपण का कार्य कराया जा रहा है।  

  (II) प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण:- इस योजना के तहत देवघर जिले को वर्ष बर्ष 2016-17 से 2020-21 तक प्राप्त लक्ष्य 60209 इकाई मो0 47.41 करोड रूपये व्यय कर 39509 आवास पूर्ण कराया जा चुका है एवं शेष इकाई का कार्य प्रगति में है।

              बर्ष 2021-22 के लिये आवास साॅफ्ट के माध्यम से आंवटित लक्ष्य 12811 इकाई के विरूद्ध नियमानुकूल स्वीकृति की प्रक्रिया चालू है।

      बाबा साहेब भीमराव अम्बेदकर आवासयोजना अंतर्गत वर्ष 2016-17 से 2020-21 तक प्राप्त लक्ष्य 1019 इकाई के विरूद्ध मो0 10.25 करेाड रूपये व्यय कर 854 आवास कार्य पूर्ण कराया जा चुका है। शेष कार्य प्रगति में है।

               इस येाजनान्तर्गत बर्ष 2021-22 के प्राप्त लक्ष्य 185 के विरूद्ध स्वीकृति प्रक्रिया जारी है।


(III) जे0एस0एल0पी0एसः-

        ग्रामीण विकास विभाग,झारखण्ड सरकार के द्वारा संचालित झारखण्ड स्टेट लाईवलीहुड प्रोमेाशन सोसाईटी के द्वारा अबतक देवघर जिला के सभी दस प्रखण्डां के 194 पंचायतों के अंतर्गत कुल 10495 सखी मण्डलों का गठन किया गया है। जिसके अंतर्गत कुल 1,27,452 गरीब परिवारों की महिलाऐं जुडकर महिला सशक्तिकरण एवं आत्मनिर्भर करने हेतु कदम बढाया गया है। कुल 788  ग्राम संगठनों का गठन अबतक हो चुका है। साथ ही, 26 संकुल स्तरीय संगठनों का गठन भी अबतक हो चुका है।  8501 सखी मण्डलों का बैंक खाता खोला जा चुका है एवं 8014 सखी मण्डलों को चक्रिय निधि की राशि प्राप्त हो चुकी है।  1918 सखी मण्डलों को बैंक लिंकेज से लाभान्वित किया गया है।  इस प्रकार सखी मण्डलों से जुडकर महिलाऐं आत्मनिर्भर बनते हुए सशक्तिकरण से समृद्धि की ओर निरंतर आगे बढ़ रही है। आजीविका क्षेत्र में कदम बढाते हुए महिलाओं के द्वारा जैविक ख्ेाती की भी शुरूआत दो प्रखण्डों में किया जा चुका है।

(IV) प्रखण्ड भवन


     देवघर जिलान्तर्गत पाॅंच प्रखण्ड (मोहनपुर, सारठ, पालोजोरी, मधुपुर एवं करौं) के लिये मो0 367.594 लाख रू0 प्राक्कलित राशि(प्रति भवन) के अनुरूप सभी आधारभूत सुविधा युक्त नये प्रखण्ड-सह-अंचल कार्यालय भवन का निर्माण कार्य पूर्ण कराया जा चुका है, जिसे व्यवहार में लाया जा रहा है। नये भवन निर्माण से प्रखण्ड/अंचल से संबंधित कार्य के सम्पादन में सुविधा हो रही है एवं इससे आम गा्रमीण को भी सुविधा मिल रही है।

      साथ ही, देवघर जिलान्तर्गत 03 प्रखण्ड (करौं, सारठ एवं पालोजेारी) में प्रखण्ड विकास पदाधिकारी-सह-अंचल अधिकारी, पर्यवेक्षक, तृतीय-चतुर्थ वर्गीय कर्मी के आवासन हेतु प्रति प्रखण्ड मो0 464.685 लाख रूपये लागत से आवासीय भवन निर्माण की स्वीकृति राज्य सरकार से प्राप्त हुआ है, जो निविदा निस्तारण की प्रक्रिया में है।

2. पर्यटन, कला-संस्कृति, खेलकूद एवं अन्यः-

   (क) देवघर जिलान्तर्गत सारवाॅं, मधुपुर एवं देवीपुर  के लिये प्रखण्ड स्तरीय स्टेडियम का निर्माण की स्वीकृति     मो0 109.44 लाख रूपये (प्रति स्टेडियम)  की स्वीकृति विभाग से प्राप्त हुई है। इन तीनों प्रखण्ड स्तरीय स्टेडियम का निर्माण कार्य भौतिक रूप से पूर्ण कराया जा चुका है। 

      मो0 177.42 लाख रू0 लागत पर मधुपुर इण्डोर स्टेडियम के निर्माण कराया जा रहा है।


(ख) देवघर जिलान्तर्गत चिन्ह्ति महत्वपूर्ण पर्यटन/दार्शनिक स्थल (नंदन पहाड, तपोवन-पहाड़, त्रिकुट पहाड,  बुढई पहाड, हरिलाजोरी, तुतरापहाड-सारवाॅ, पथरौल, चोलपहाडी, डकाय दुबे बाबा मंदिर परिसर,  सिकटिया-बराज, तालझारी-दुर्गामंदिर स्थल, कुकराहा दुर्गा मंदिर स्थल, तथा गंजोबारी-नायक धाम) को विकसित करनेे एवं आकर्षक बनाने हेतु वर्ष 2016-17 से 2019-20, के लिये प्राप्त विभागीय आवंटन से स्थानीय आवश्यकता आधारित संरचना का निर्माण कराया गया है।

      देवघर नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत 04 पर्यटन/सार्वजनिक स्थलों पर Open - Indoor GYM का निर्माण कराया जा रहा है।


    (ग) प्रसाद योजनाः-

          विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला के हित श्रावणी मेला आच्छादित क्षेत्रों के लिये निम्न कार्य स्वीकृत है, जिसपर कार्य कराया जा रहा हैः-

1- Enterance Gateway to City

2- Jalsaar Lake Front Development

3- Shivganga Pond Beautification

4- Tourist Information KIOSK

5- Command Center

6- Kanwariya Path Strengthening


            प्रसाद योजनान्तर्गत लगभग 39 करोड लागत राशि से कमाण्ड सेन्टर बनाया जाना है, जो सभी सुविधाओं से युक्त होगा एवं भुतल पर  द्वादश ज्योर्तिलिंग का माॅडल बनाया जाएगा।    

3. सामाजिक सुरक्षाः-

     इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय वृद्धा पेंशन  के तहत् 40273 लाभुक, इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन के तहत्  9556 लाभुक, इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय दिव्यांग पेंशन के तहत् 1709 लाभुक, मुख्यमंत्री राज्य सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के तहत् 32852 लाभुक, मुख्यमंत्री राज्य विधवा सम्मान पेंशन योजना के तहत 11080 लाभुक, मुख्यमंत्री आदिम जन जाति पेंशन के तहत 892 लाभुक मुख्यमंत्री एच0आई0वी0 एड्स पीड़ित पेंशन  के तहत 50 लाभुक, तथा स्वामी विवेकानंद निःशक्त स्वावलंबन पेशन योजना के तहत कुल 14011 (कुल 110423  लाभुक) को आच्छादित करते हुए लाभान्वित किया जा रहा है।  

                                                                                                   

5. एम्स एवं एयरपेार्टः-

     (क)   देवघर जिलान्तर्गत बहुुप्रतीक्षित एम्स का निर्माण कार्य पूर्ण कराकर संचालन हेतु एम्स प्रबंधन को हस्तगत कराया जा चुका है।

           इसी क्रम में बर्ष 2019 से एम्स के नियंत्रणाधीन एम0बी0बी0एस0 के शैक्षणिक सत्र का आरम्भ स्थानीय पंचायत प्रशिक्षण संस्थान,डाबरग्राम,जसीडीह में किया जा रहा है।

     (ख)  देवघर जिलान्तर्गत एयरपेार्ट के निर्माण का कार्य अंतिम चरण (पूर्णता की स्थिति) में है।

6. कल्याण:- 

     ’’ प्री-मैट्रिक छात्रवृत्तिः- वर्ग  1 से 10 तक अध्ययनरत 73,873 छात्रों को च्थ्डै के माध्यम से प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के का भुंगतान किया गया है।

       ’’ साईकिल वितरण योजनाः- इस येाजनाके तहत अष्टम वर्ग में अध्ययनरत अनु0जाति/अनु0ज0ज0, पिछडी जाति एवं अल्पसंख्यक समुदाय के कुल 22673 छात्राओं को  सरकार द्वारा सीधे साईकि मुहैया कराने की कार्रवाई की जा रही है।

     ’’ चिकित्सा अनुदान योजनाः- कुल 748 असाध्य रेाग, दुर्धटना में घायल एवं गंभीर बिमारी इत्यादि से पीड़ित अुन0जाति/अनु0ज0ज0 एवं पिछडी जाति के व्यक्ति (जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर कर रहे है) को लाभान्वित किया गया हैं

     ’’ अनु0जाति/जनजाति अत्याचार निवारणः- अनु0जा0/अनु0ज0ज0 अत्याचार अधिनियम 1989 के संशेाधित नियम-2016 के तहत कुल 37 लाभुकों को आच्छादित किया गया है।

       ’’ वन अधिकार अधिनियम,2006ः- वनों मे निवास करने वाले अनु0जनजाति/आदिम जनजाति परिवार के कुल 124 येाग्य पाये गये लाभुकों को जंगल भमि पर खेती एवं आवासयी कार्य हेतु पट्टा वितरित किया गया है।


7. आपूत्र्तिः- 

’’ देवघर जिलान्तर्गत कुल 2,12,895 पूर्विक्ता प्राप्त गृहस्थ परिवार (PHH) राशन कार्ड के माध्यम से कुल 11,22,847 सदस्यों/ व्यक्तियों को प्रति सदस्य 5 कि0ग्रा0 अनाज मात्र 1/-रू0 प्रति किलोग्राम की दर से प्रति माह उपलब्ध कराया जा रहा है।


’’ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्य येाजना के तहत कुल 2,12,895 पूर्विक्ता प्राप्त गृहस्थ परिवार (PHH) राशन कार्ड के माध्यम से कुल 11,22,847 सदस्यों/व्यक्तियों को प्रति सदस्य 5 कि0ग्रा0 अनाज निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है।


  ’’  देवघर जिला अंतर्गत कुल 15,346 अन्त्योदय पविारों को राशन कार्ड के माध्यम से कुल 67,920 सदस्यों को प्रति राशन कार्ड 35 कि0ग्रा0 आज 1/-रू0 प्रति कि0ग्रा0 की दर से प्रतिमाह उपलब्ध कराया जा रहा है।


 ’’   प्रधानमंत्री ग्ररीब कल्याण अन्न योजना के तहत  कुल 15,3466 अन्त्योदय पविारों को राशन कार्ड के माध्यम से कुल 67,920 सदस्यों को प्रति राशन कार्ड 5 कि0ग्रा0 अनाज निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है।


 ’’ जिलान्तर्गत कुल 678 आदिम जनजाति पहाडिया परिवारों को 35 कि0ग्रा0 अनाज प्रतिमाह डाकिया येाजना के तहत प्रखण्ड आपूत्र्ति पदाधिकारी के माध्यम से उनके घरों तक पहुॅचाया जा रहा है।


 ’’  जिलान्तर्गत कुल 18 पैक्सों के द्वारा धान अधिप्राप्ति योजना के तहत 3928 किसानों से 196749.87 क्वी0 धान अधिप्राप्त किया गया है, जिसमें से कुल 3832 किसानों को 32,06,21,307/-रू0  का भुगतान किया जा चुका है।


  ’’ जिलान्तर्गत कुल 14 दाल भात केन्द्रों के माध्यम से मुख्यमंत्री कैंन्टिन येाजना के तहत प्रतिदिन भेाजन की व्यवस्था की गयी है।

   

8. कृषिः- 

’’ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना अंतर्गत विभिन्न फसलों में कुल 795 हैक्टेयर में प्रत्यक्षण सम्पादित किया गया है।

’’ अनुदान पर कुल 140 पम्पसेट, 36 स्प्रेयर,  05 रोटाभेटर का वितरण किया गया है।साथ ही, उक्त योजना के तहत 50 प्रतिशत अनुदान पर 20 पम्पसेट, 253 स्प्रे मशीन का विवरण किया गया है।

’’ बीज विनिमय एवं वितरण कार्यक्रम के तहत धान बीज 2705 क्वी0 किसानों के बीच 50 प्रतिशत अनुदान पर वितरित किया गया है।

’’ देवघर जिलान्तर्गत देवघर एवं मधुपुर प्रखण्ड में किसानेां को कृषि से संबंधित जानकारी हेतु एग्रो क्लीनिक का स्थापना किया गया है।

  9. स्वास्थ्य:-

’’  देवघर जिले के सदर अस्पताल तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में  दिनांक 16.01.2021 से अबतक लगभग 4,49,331 लोगों को कोविड-19 से बचाव हेतु टीका लगाया गया है। इसमें से 3,73,833 लोगों को पहली खुराक तथा 75,498 लोगों को दूसरी खुराक दी गयी है।

’’   केाविड-19 के अंतर्गत 4,76,512 संभावित रेागियों की जाॅच की गयी, जिसमें से कुल 10,786 व्यक्तियों को पेाजिटिभ पाया गया, इसमें से 10,661 व्यक्तियों का समुचित चिकित्सा लाभ से संक्रमण मुक्त किया गया है। वत्र्तमान में देवघर जिला में मात्र 15 एक्टिभ केस है।  

’’      देवघर जिला में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराने हेतु पुराना सदर अस्पताल, नया सदर अस्पताल एवं अनुमण्डलीय अस्पताल,मधुपुर में ऑक्सीजन प्लांट अधिष्ठापित की जा रही है, जो अंतिम चरण में हैं इसके अतिरिक्त कोविड-19 संक्रमित बच्चों के समुचित ईलाज हेतु नया सदर अस्पताल,देवघर में 20 बेड का PICU/NICU का अधिष्ठापन किया जा रहा है।

10. टीकाकरण:- 

(क) देवघर जिले में टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी, 2021 को हुई थी। इन आठ माह में हमारे जिले में 384978 लोगों ने पहला डोज लिया जो की कुल लक्ष्य के 36%है। लगभग 79043 (8%) जनसंख्या ने दूसरा डोज लिया है। जबकि भारत में 30% लोगों ने पहला और 8% लोगों ने दूसरा डोज लिया है। हमने कुल 45781 अपंसे इसके लिए उपयोग में लाए जिससे पता चलता है कि हम ने एक अपंस से 10 से अधिक डोज लगाकर डोज का wastage को रोका है। 

(ख) 9111 स्वास्थकर्मी और 12436 फ्रंट लाईन वर्कर्स को अबतक देवघर में पहला टीका लगाया जा चुका है। इसी के साथ देवघर शहरी क्षेत्र का पहले डोज का टीकाकरण 65% हो चुका है। इसी के साथ देवीपुर प्रखण्ड में भोजपुर, धोबाना, दरंगा पंचायतों ने शत प्रतिशत पहला डोज टीकाकरण किया है।

(ग) देवघर में दिनांक- 05.06.2021 से दिनांक- 12.06.2021 के बीच में विशेष कैम्प का आयोजन कर हाय रिस्क ग्रुप्स को जैसे की पत्रकार आदि का टीकाकरण कराया गया। इसके अलावा बेघर, विस्थापित लोग जिनके पास कोई पहचानपत्र नहीं है उन्हें भी विशेष कैम्प आयोजित कर टीका दिलाया गया।


11. पेयजल एवं स्वच्छताः-


    (क) देवघर जिला खुले से शैाचमुक्त हो चुका है। बेसलाईन सर्वे 2012 के आधार पर इस जिले में IMIS के अनुसार घरेलू व्यैक्तिक शौचालय से 182730 घरों को आच्छादित किया गया है। SBM(G) Phase-II में शौचमुक्त गतिविधि के हत परिस्थितिकीय रूप से सुरक्षित और स्थायी स्वच्छता पद्यति को विकसित करने हेतु स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण कार्यक्रम अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों चलायी जा रही है।

    (ख) देवघर जिलान्तर्गत कुल 194 पंचायतों के लियें प्रत्ेयक पंचायत में 05-05 अदद चापानल अधिष्ठापन हेतु कुल 970 चापानलों की स्वीकृति प्राप्त है। स्वीकृति के अनुरूप प्रत्येक पंचायत में चापानल अधिष्ठापन कार्य जारी है।

■ माननीय मंत्री स्वतंत्रता सैनानियों व उनके परिजनों के साथ जिले के कोरोना वरियर्स, समाजसेवी संस्थाओं व बच्चों को किया गया सम्मानित....


कार्यक्रम के दौरान माननीय मंत्री हफ़ीजूल हसन जी द्वारा जिले के स्वतंत्रता सैनानियों व उनके परिजनों को साॅल व पुस्पगुच्छ देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा दसवीं एवं बारहवीं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। साथ हीं कोरोना वाॅरियर्स के रूप में पुलिस पदाधिकारियों व जिले के नगर निगम के अधिकारियों, तेजस्विनी क्लब की दीदियों   नगर निगम के सफाईकर्मी एवं विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं को सम्मानित किया गया।


इस दौरान उपरोक्त के अलावे उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी श्री मंजूनाथ भजंत्री, पुलिस अधीक्षक श्री धनंजय कुमार सिंह, उप विकास आयुक्त श्री संजय सिन्हा, नगर आयुक्त श्री शैलेन्द्र कुमार लाल, डीआरडीए निदेशक श्रीमती नयन तारा केरकेटटा, अनुमंडल पदाधिकारी श्री दिनेश कुमार यादव, प्रशिक्षु आई.ए.एस श्री अनिकेत सच्चान, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी श्री पवन कुमार, जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी श्री रवि कुमार, जिला नजारत उप समाहर्ता श्री परमेश्वर मुण्डा, जिला आपूर्ति पदाधिकारी मीनाक्षी भगत, जिला शिक्षा पदाधिकारी बिना कुमारी, जिला खेल पदाधिकारी राजेश चैधरी, सहायक जनसम्पर्क पदाधिकारी श्री रोहित कुमार विद्यार्थी एवं संबंधित विभाग के अधिकारी, समाज के गणमान्य व्यक्ति एवं कर्मी आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं