17 वर्षों से सेवा देने के बावजूद भी सरकार नियमावली व सेवा शर्त का निर्धारण नहीं कर पाई!



मघुपुर :- सूबे के अल्पसंख्यक कल्याण, पर्यटन ,कला-संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के मंत्री हफीजुल हसन के केला बागान स्थित आवास पर रविवार को बीआरपी व सीआरपी महासंघ ने जिला अध्यक्ष सह प्रदेश उपाध्यक्ष गणेश गौतम के नेतृत्व में अपनी सेवा नियमित करने सहित पांच सूत्री मांग पत्र मंत्री को सौंपा ।मौके पर संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष गणेश गौतम ने बताया विगत 17 वर्षों से लगातार सेवा देने के बावजूद नियमावली एवं सेवा शर्त का निर्धारण नहीं किया गया । वर्तमान में बीआरपी व सीआरपी को न तो झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद में कार्य अन्य कर्मियों की भांति सुविधा का लाभ मिल रहा है नाही राज्य सरकार के अधीनस्थ विभिन्न कार्यालयों में कार्यरत अनुबंध कर्मियों के समान समायोजन हेतु कोई प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है । 

क्या है मांग पत्र मे

* सेवा शर्त निर्धारित तथा नियमितीकरण की नीति  निर्धारित की जाए |

* शिक्षा विभाग के रिक्त पड़े पदों पर बीआरपी , सीआरपी को सीधे समायोजित किया जाए | 

* शिक्षा सेवा अवर शिक्षा सेवा एवं शिक्षक नियुक्ति में 50% आरक्षण दिया जाए |

* अनुबंध कर्मियों के समायोजन को लेकर बनाई गई उच्चस्तरीय कमेटी के समक्ष बीआरपी व सीआरपी की सूची उपलब्ध कराया जाए । 

* ईपीएफ सहित अन्य सरकारी कर्मियों को मिलने वाली सुविधाएं भी हमें दिया जाए |

यह लोग थे मौजूद

कृष्णा प्रसाद यादव , अमरेंद्र तिवारी , मनोज कुमार राय , राधेश्याम झा,नितिन कुमार राय, अनंत कुमार सिंह , मधुपुर प्रखंड अध्यक्ष असलम नजीर , देवव्रत, सुधांशु प्रसाद यादव , छोटे लाल दास , मोहम्मद इशाक अंसारी , राजा फरीदी , धीरेंद्र महतो , योगेंद्र प्रसाद सिंह ,वरुण यादव, संजय राऊत , सुशील कुमार यादव , उज्जवल मंडल ,दिनानाथ महतो , विजय शर्मा , नीरज कुमार मंडल , धीरेंद्र राय , जय शंकर साह आदि मौजूद थे!

कोई टिप्पणी नहीं