उपायुक्त ने ग्रामीण स्तर पर बाल संरक्षण समितियों को एक्टिव करने का दिया निर्देश



उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में ग्राम स्तर पर बाल संरक्षण समितियों को पूर्ण रूप से सक्रिय करने और इस दिशा में बेहतर कार्य करने के उदेश्य से जिला समाज कल्याण कार्यालय, जेएसएलपीएस, तेजस्वीनी क्लब, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन के अधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन समाहरणालय सभागार में किया गया। इस दौरान उपायुक्त द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न आवश्यक बिन्दुओं पर जमीनी स्तर पर कार्य करने की दिशा में संबंधित अधिकारियों को आवश्यक व उचित दिशा-निर्देश दिया। साथ हीं ग्रामीण स्तर पर बाल विवाह, दहेज प्रथा, कन्या भू्रण हत्या, मानव तस्करी आदि को जिला से पूर्णतः समाप्त करने की दिशा में जिला एवं ग्राम स्तर पर बने विभिन्न संगठनों यथा-जिला समाज कल्याण विभाग, डीसीपीयू, वीएलसीपीसी, जेएसएलपीएस, आनन्द शाला, तेजस्वीनी क्लब आदि को आपसी समन्वय स्थापित करते हुए मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है। आगे उपायुक्त ने कहा कि बाल विवाह, भू्रण हत्या, दहेज प्रथा आदि जैसी कुप्रथा अशिक्षा के कारण हमारे समाज में अपनी जगह बनाए हुए हैं। ऐसे में संबंधित विभाग के अधिकारी व कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउंडेशन के अधिकारी आपसी समन्व्यव व बेहतर कार्य योजना के साथ ग्रामीण परिवेश में लोगों को जागरूक करते हुए बेहतर शिक्षा का माहौल तैयार करने पर भी कार्य करने की आवश्यकता है, ताकि हमारे समाज में फैले इन कुरीतियों को पूर्णतः समाप्त किया जा सके।

इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने इस दिशा में बेहतर कार्य कार्य योजना को प्रभावी रूप से सुनिश्चित करने के अलावा बिन्दुओं पर चर्चा करते हुए कहा कि ग्राम स्तर पर वीएलसीपीसी को पूर्ण रूप से सक्रिय करने की जरूरत है, जिसके लिए सभी को मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है। साथ हीं बाल श्रम, मानव व्यापार, बाल व्यापार जैसे सामाजिक मुद्दों पर विशेष अभियान चलाने का निर्णय बैठक में लिया गया।  वहीं बाल विवाह और विवाह के नाम पर महिलाओं के शोषण पर रोक लगाने हेतु व्यापक स्तर पर जन जागरूकता अभियान को जमीनी स्तर पर बेहतर कार्य योजना के साथ चलाने निदेश उपायुक्त द्वारा दिया गया। आगे उपायुक्त ने इस हेतु सभी वीएलसीपीसी को सक्रिय कर उसका प्रशिक्षण करने का निर्णय लिया गया एवं संबंधित अधिकारियों को निदेशित किया कि इस अभियान को सफल बनाने हेतु जेएसएलपीएस, आनंद शाला, तेजस्विनी, डीसीपीयू एवं समाज कल्याण को आपसी समन्वय स्थापित कर इस दिशा में बेहतर कार्य योजना तैयार करते हुए उपायुक्त कार्यालय को अवगत करायें, ताकि समाज में फैले कुरीतियों को पूर्ण रूप समाप्त किया जा सके। 

बैठक में उपरोक्त के अलावे जिला समाज कल्याण पदाधिकारी कनक कुमारी तिर्की, जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी  रवि कुमार, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउंडेशन के अधिकारी, जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी, जेएसएलपीएस, तेजस्वीनी क्लब के साथ-साथ संबंधित विभाग के अधिकारी व कर्मी आदि उपस्थित थे। 

कोई टिप्पणी नहीं