उपायुक्त ने एसपी माइंस का निरीक्षण कर अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश



उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री की अध्यक्षता में चित्रा कोलियरी के सभागार में बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान उपायुक्त द्वारा कोलियरी के अन्तर्गत क्षेत्रों में कहाँ-कहाँ खनन का कार्य चल रहा है, भूमि हस्तांतरण में क्या समस्याएं आ रही है, भूमि अधिग्रहण के उपरांत मुआवजा देने की प्रक्रिया आदि पर विस्तृत चर्चा करते हुए ई0सी0एल0 महाप्रबंधक को आवश्यक व उचित दिशा निर्देश दिया।

इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने बिंदुबार कार्यो की समीक्षा करते हुए जमीन अधिग्रहण से संबंधित परिवारों को क्या सेवाएं देनी है, मुआवजे की राशि आदि से जुड़े कार्यों को संबंधित विभाग के साथ समन्वय स्थापित कर पूर्ण करने का निर्देश दिया। साथ ही उपायुक्त ने सम्पूर्ण कोलियरी क्षेत्र में ई0सी0एल0 के द्वारा सी0एस0आर0 के तहत् क्या-क्या कार्य कराया जा रहा है उन सभी कार्यों की जानकारी ली गई तथा ई0सी0एल0 के अधिकारियों को निदेशित किया कि कोलियरी क्षेत्र के गड्डों के भराई के अलावा आस-पास वृक्षारोपण, स्वच्छता पर विशेष रूप से ध्यान रखें। आगे उपायुक्त ने ई0सी0एल0 के महाप्रबंधक को निदेशित किया कि जमीन अधिग्रहण हेतु इस बात की जानकारी अवश्य लें कि जमीन किस प्रकार का है, वो गोचर है, रैयती है, सरकारी है। इसमे किसी भी प्रकार की समस्या आने पर अनुमंडल पदाधिकारी मधुपुर, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी से समन्वय स्थापित कर इसका त्वरित समाधन करा ले। फोरेस्ट विभाग के अधीन जमीनों को क्लियरेंस हेतु जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी से समन्वय स्थापित कर नो ऑब्जेक्शन सर्टीफिकेट प्राप्त कर ले, ताकि खनन कार्य में किसी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े।

बैठक के पश्चात उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने कोलियरी क्षेत्र का भ्रमण कर तुलसीडाबर, भवानीपुर, खून इत्यादि मौजा अंतर्गत चल रहे कार्यों का निरीक्षण करते हुए विस्थापितों से संबंधित विस्तृत जानकारी ली। साथ ही जल्द से जल्द कैंप का आयोजन कर लाभुकों को बकाया राशि भुगतान करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। साथ ही निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने महाप्रबंधक को निदेशित किया कि कोलियरी क्षेत्र में वैसी जगहों पर जहाँ खनन का कार्य समाप्त हो गया है, उसे भरकर उन क्षेत्रों में वृक्षारोपण का कार्य कराया जाय अन्यथा उन गड्ढों को तालाब के रूप में निर्माण कराया जाय, जिससे कि यहाँ आस-पास के किसानों को सिंचाई में इसका फायदा मिल सके। उपायुक्त ने ई0सी0एल0 के महाप्रबंधक को निदेश दिया कि जितने भी काटा माप तौल हेतु कोलियरी क्षेत्र में जितने भी उपकरण लगे हैं, उन सभी के जाँच माप तौल पदाधिकारी से करा ले, ताकि वजन से संबंधित किसी प्रकार की अनियमिता न हो पाए। साथ ही अवैध खनन, ओवर लोडिंग, चलान, राजस्व वसूली, ओवरलोड व बिना चालान के वाहनों पर अब तक की गई कार्रवाई को लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया। साथ ही आपसी समन्वय के साथ आगे भी अवैध खनन को लेकर सख्त कार्यवाही करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया।

इस दौरान मौके पर उपरोक्त के अलावा जिला वन पदाधिकारी, ई0सी0एल0 के महाप्रबंधक, अपर समाहर्ता, अनुमण्डल पदाधिकारी, मधुपुर, जिला भू अर्जन पदाधिकारी, जिला खनन पदाधिकारी, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, संबंधित प्रखंड के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी, थाना प्रभारी, सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी एवं ई0सी0एल कोलियरी के अन्य अधिकारी आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं