चम्पापुर की जर्जर सड़क पर आवागमन में राहगीरों को हो रही है परेशानी



नारायणपुर(जामताड़ा): नारायणपुर प्रखंड के चम्पापुर की कच्ची सड़क जर्जर हो जाने से राहगीरों को आवागमन में भारी दिक्कतों का सामना करना करना पड़ता है| विगत दिनों क्षेत्र में लगातार हुए बारिस से कच्ची सड़क कीचड़मय हो गई है जिस कारण राहगीरों को आवागमन में भारी दिक्कतें हो रही है|सड़क कीचड़ उक्त होने के कारण कई वाहन चालक फिसल कर गिर भी चुके है| वहीँ चंपापुर के ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधि एवं जिला प्रशासन के आंखों में जर्जर सड़क की खबर को पहुंचाने की भरपूर कोशिश तो की है लेकिन इसका नतीजा वही केवल आस्वासन ही मिला| जामताड़ा विधानसभा क्षेत्र के नारायणपुर प्रखंडअंतर्गत मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर पश्चिम चम्पापुर गांव के ऊपर बेड़वा टोला होकर  नमनिया,  माथाशेर , मनकडीहा,  गगनपुर,  बाँकी कला,  पण्डरिया,  देवपुर,  लखनपुर होते हुए गाण्डेय प्रखंड होकर गिरिडीह जिला मुख्यालय को जाती है  । चंपापुर के  ग्रामीण इमरान अंसारी , मिनहाज अंसारी ,  मोहम्मद खलील अंसारी , नसरुल अंसारी , हबीब अंसारी , अब्दुल अजीज अंसारी , अजमल अंसारी , लियाकत अंसारी ,  शहाबुद्दीन अंसारी , अलाउद्दीन अंसारी , अब्दुल हमीद अंसारी , कौशर अंसारी , अली हुसैन अंसारी आदि ने बताया कि चंपापुर उर्दू मध्य विद्यालय मोड़ से लेकर बेड़िया  नदी घाट के पहुंच  वाली सड़क  बहुत ही दलदल एवं कीचड़मय हो गई है । वहीँ ग्रमीणों ने कहा कि  क्षेत्र के सैकड़ों लोगों को रोजाना दैनिक राशन सामान ,  दवाई , सब्जी , मरीज को डॉक्टर के पास दिखाने एवं सगे संबंधी के घर जाने आने के लिए बहुत ही कठिनाइयों का सामना करना होता है । ग्रामीणों ने कहा कि  बरसात के मौसम में 3 से 4 महीने तक यह कच्ची पगडंडी सड़क में आवागमन दूभर हो जाता है ।  चंपापुर के ग्रामीणों ने कई बार स्थानीय विधायक डॉ इऱफान अंसारी और पंचायत स्तरीय जनप्रतिनिधि एवं जिला प्रशासन को इसकी जानकारी दी है परंतु यहां अभी तक कोई दलदल एवं कीचड़ में स्थल तक पहुंचने की जरूरत नहीं समझे हैं । चंपापुर के आदिवासी टोला करीब है मगर विभागीय कर्मचारी जिला मुख्यालय का अंतिम छोर समझकर भ्रमण करने की कोशिश भी नहीं करते ताकि उन्हें यह दलदल रास्ता दिखाई पड़ता है|ग्रामीणों ने स्थानीय विधायक और जिला प्रसाशन से उक्त सड़क की मरम्मती की माँग की है|


नारायणपुर से कुमार निकेश की रिपोर्ट

कोई टिप्पणी नहीं