गौचर जमीन पर सिंचाई कूप निर्माण करने व ईंट बनाने के लिए मिट्टी गिराने को लेकर ग्रामीणों ने डीसी को लिखा पत्र



देवघर जिले के सारठ : प्रखंड क्षेत्र के मंझलाडीह पंचायत के अमलाचातर गांव निवासी एक दर्जन ग्रामीणों ने डीसी मंजूनाथ भजंत्री को पत्र लिखकर गौचर जमीन के हो रहे अतिक्रमण पर रोक लगाने की मांग की है। डीसी को दिये आवेदन में ग्रामीणों का कहना है कि मौजा अमलाचातर के गौचर भूमि पर गांव के ही संजय यादव द्वारा सिंचाई कूप का निर्माण करवाया जा रहा है और ग्रामीणों द्वारा मना करने के बावजूद भी गौचर जमीन का अतिक्रमण किया जा रहा है। वहीं बगल गांव मिसराडीह के मदन यादव द्वारा भी उसी गौचर जमीन पर ईंट बनवाने के लिए सैंकड़ो ट्रैक्टर मिट्टी गिरवाया गया है। जिससे गांव के ग्रामीणों के पशुओं का चारागाह खतरे में होता जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि गौचर जमीन के हो रहे अतिक्रमण पर अंकुश नहीं लगाया गया तो गांव के सभी ग्रामीणों के पशुओं को बरसात के दिनों में चरने का जगह नहीं मिलेगा। वहीं आने वाला कल गांव के दूसरे लोग भी गौचर भूमि का अतिक्रमण करने के फिराक में रहेंगे और किसानों के पशुधन को चारागाह के लिए परेशानी का सामना करनी होगी। ग्रामीणों द्वारा डीसी को दिये गये आवेदन पत्र की प्रतिलिपि डीडीसी देवघर और बीडीओ सारठ को भी दिया गया है और गौचर जमीन को अतिक्रमणमुक्त कराने की मांग की है। डीसी को दिये आवेदन में ग्रामीण दशरथ महतो, पंचानंद महतो, दिनेश यादव, पिंटू कुमार यादव, मदन यादव, चंद्रदेव यादव, सुदाम महतो, रूपेश यादव आदि  का कहना था कि यदि प्रशासन द्वारा गौचर भूमि को अतिक्रमणमुक्त नहीं कराया गया तो सभी ग्रामीण सड़क पर भी उतरने के लिए बाध्य हो जायेंगे। वहीं इस संदर्भ में डीसी मंजूनाथ भजंत्री को फोन करके उनका पक्ष जानना चाहा, लेकिन डीसी द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं