जनहित में रजिस्ट्रार और सी ओ के खाली पदों पर तत्काल तैनाती जरुरी: संजय भारद्वाज



झारखंड प्रदेश राजद सचिव और मधुपुर विधानसभा प्रभारी संजय भारद्वाज ने जनहित को देखते हुए देवघर में रजिस्ट्रार और मोहनपुर प्रखंड में अंचलाधिकारी के रिक्त पदों पर  अनुभवी और व्यवहार कुशल अधिकारी  तत्काल नियुक्त करने की मांग मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से की है।

 उन्होंने कहा कि देवघर क्षेत्र में हो रही जमीन खरीद- बिक्री के लिए आम जनता का वर्षो से प्रशासनिक पदाधिकारियों की कमी और व्यवहार के कारण  दोहन हो रहा है, जिससे हर हाल में राहत मिलनी चाहिए। 

देवघर मौजा एवं चोक चन्दनी मौजा लाखराज किस्म की जमीन है, जिसका कोई नक्शा नही है। ना ही कोई पंजी=2 है और ना ही कोई खतियान है।वर्ष 2012 तक मदर डीड और चौहद्दी के आधार पर खरीद बिक्री हो रही थी। देवधर शहर का सर्वे करवाया जाए और आनलाइन फीडिंग करायी जाये। पड़ोसी राज्य बिहार में आनलाइन व्यवस्था प्रभावी ढंग से काम कर रही है जबकि यहां आनलाइन में काफी त्रुटि है, जिसे शीघ्र दूर किये जाने की जरूरत है। 

 देवघर अंचलाधिकारी के पद पर तैनात अधिकारी की अंचलाधिकारी के रूप में यह प्रथम नियुक्ति है इसलिए अनुभव के अभाव के कारण जनता का काम नहीं हो पाता है। इसलिए जरूरी है कि मोहनपुर में रिक्त पद पर अंचलाधिकारी  की नियुक्ति की जाये और देवघर में वर्तमान  अंचलाधिकारी की जगह एक  ईमानदार और अनुभवी अंचलाधिकारी की नियुक्ति की जाए जिससे जनता को राहत मिल सके। इसके अलावा देवघर में पूर्णकालिक रजिस्ट्रार की भी तैनाती है।

 श्री भारद्वाज का कहना है कि राजस्व और राजनीति के दृष्टिकोण से देवघर जिले में देवघर और मोहनपुर प्रखंड काफी महत्वपूर्ण है और

सत्तारूढ़ गठबंधन के एक जिम्मेदार कार्यकर्ता के रूप में मैंने स्वयं अनुभव किया है कि भूराजस्व के नियमों के संबंध में इनकी अनुभवहीनता और रुखे व्यवहार के कारण जनसामान्य को व्यवहारिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इनके स्तर से  सत्तारूढ़ गठबंधन के राजनीतिक दलों के नेताओं की गरिमा के अनुरूप व्यवहार का सर्वथा अभाव रहता है। 

 इसलिए भू-राजस्व के जटिल प्रकरणों और जनहित को देखते हुए  ऐसे अधिकारी का स्थानांतरण अन्यत्र कही किया जाये और देवघर प्रखंड में किसी अनुभवी, ईमानदार और व्यवहार कुशल रजिस्ट्रार और मोहनपुर प्रखंड में अंचलाधिकारी की तत्काल तैनाती हो।

कोई टिप्पणी नहीं