नाला आरके प्लस टू उच्च विद्यालय में किशोरी सशक्तिकरण हेतु कार्यशाला का किया गया आयोजन |



नाला (जामताड़ा)-- नेहरू युवा केंद्र जामताड़ा, बदलाव फाउंडेशन,उमंग परियोजना एवं आईसीआरडब्लयू के संयुक्त तत्वावधान में आरके प्लस टू उच्च विद्यालय नाला में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। मालुम हो कि कार्यशाला नेहरू युवा केंद्र के युवाओं  का किशोरी सशक्तिकरण में भूमिका हेतु किया गया था।मौके पर राजेन्द्र ने बताया कि किशोरी सशक्तिकरण अत्यंत जरूरी है,किशोरी को अपने बल पर खड़ा करना बेहद जरूरी है,इसके लिए हमे लड़का लड़की पर भेदभाव ना करते हुए उन्हें बराबर का दर्जा देना चाहिए,किशोरी सशक्तिकरण हेतु जगह जगह तरह तरह कार्यक्रम का आयोजन करने का भी निर्देश दिया गया। वहीं बिनित झा ने कहा कि लड़की की कम आयु में शादी कराना पूरी तरह से गैर कानूनी कार्य है ।लड़कियों के कम आयु में शादी करा देने से वे मानसिक और शारीरिक रूप से ग्रस्त हो जाते है जिससे वे जिंदगी में कभी भी आगे नहीं बढ़ पाती।उसके बाद दिनेश यादव ने भी काफी विस्तार पूर्वक किशोरियों को किशोरी सशक्तिकरण के बारे जानकारी दी।इस संबंध में नेहरू युवा केंद्र जामताड़ा के यूथ मेंबर राजकिशोर यादव ने कहा कि लड़की को शिक्षित करना अत्यंत जरूरी है क्योंकि यदि लड़कियां अशिक्षित रह जाएगी तो वे बाद में हमारे देश के लिए परिसंपत्ति ना बनकर हमारे लिए बोझ बन जाएगी । इस दौरान आरके प्लस टू उच्च विद्यालय नाला के शिक्षक मुकेश कुमार ने सभी किशोरियों को संबोधित करते हुए कहा कि जबतक किशोरी अपने अधिकार और कर्तव्य के प्रति जागरूक नहीं होगी तबतक समाज का विकास नहीं हो सकता | कहा कि नारी व किशोरी पुरूष के मुकाबले किसी भी क्षेत्र में पुरूषों से कम नहीं है | हमें नारी एवं किशोरियों को और सशक्त बनाने की आवश्यकता है ताकि आने वाली पीढी आत्मनिर्भर एवं स्वाबलंबी बनकर समाज की दिशा और दशा को बदल सके | उन्होंने बाल विवाह पर भी प्रकाश डाला| कार्यशाला के दौरान विभिन्न ग्रुपों ने तरह तरह किशोरी सशक्तिकरण हेतु प्रोजेक्ट पेश की। मौके पर नेहरू युवा केंद्र जामताड़ा के अपराजिता यादव,बबली यादव,सरोज यादव,विष्णु राउत, सुस्मिता कुमारी सहित जिला से आए हुए राजेन्द्र , प्रोजेक्ट मैनेजर  दिनेश यादव, उमंग परियोजना के बीनित झा के अलावे आरके प्लस टु उच्च विद्यालय नाला के प्रधानाध्यापक राजेश कुमार, मुकेश कुमार , अनुप कुमार के अलावे अन्य शिक्षक - शिक्षिकाएँ मौजूद थे ।

कोई टिप्पणी नहीं