राहुल अध्ययन केंद्र में पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के स्मृति दिवस पर उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया है !



मधुपुर 27 जुलाई स्थानीय राहुल अध्ययन केन्द्र में पूर्व राष्ट्रपति डाँ0 ए पी जे अब्दुल कलाम समृति दिवस पर याद किये गये । मौके पर उनकी तस्वीर पर माल्यांपण कर लोगों ने श्रद्धा सुमन अर्पित किये । मौके पर जनवादी चिंतक धनंजय प्रसाद ने उनके जीवन पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुये कहा कि डाँ0 कलाम भारत को एक विकसित देश के रुप में देखना चाहते थे इसके लिए उनके मन में योजनाएं थी । देश के पहले वैज्ञानिक थे जिन्हें देश के सर्वोच्च पद पर सुशोभित हुये , हांलाकि उनका कद पद से भी उँचा था । वे कठिन संघर्ष के बल पर बुलन्दियों को चूमे । उन्होने देश को परमणु सम्पन्न बनाया । मिसाईल मैन के नाम से जाने गये । वैज्ञानिक शोद्य के आलावे उनकी रूचि संगीत , साहित्य व बच्चों में रही थी । उनकी कई पुस्तकें प्रकाशित हुई है , जिसमें प्रमुख विंग्स आँफ फायर , इंडिया 2020 ए विजन फाँर द न्यू मिलेनियम , माईजनी , अनलीशिंग पाँवर विदिन द इंडिया आदि । उन्हें देश का सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न , पदम विभूषण , पदम भूषण सहित अनेकों सम्मानों से सम्मानित किये गये । उन्होनें देश के कई विश्वविद्यालय से मानद डाँक्टरेड की उपाधि से भी अलंकित किये जा चूके है । 27 जुलाई 2015 को हमारे बीच से चले गये । ऐसे विमूति को स्मूति दिवस पर याद करना लाजिमी है । सुखदेव , आलोक , निसार आदि ने भी श्रद्धासुमन अर्पित किये

कोई टिप्पणी नहीं