बीएड के छात्रों ने उपायुक्त एवं जिला कल्याण पदाधिकारी को सौंपा मांग पत्र।



छात्रवृत्ति अधिकार मंच के द्वारा 4 महीनों से अलग -अलग माध्यम से छात्रवृत्ति आवेदन पोर्टल 2020 -21 से वंचित छात्र- छात्राओं के लिए आवेदन पोर्टल चालू करने की मांग को लेकर आंदोलन चलाया जा रह था ।  B.Ed के 4000 से अधिक छात्र 2020-21 सत्र में आवेदन से वंचित रहने से पढ़ाई छोड़ने की स्थिति में है। 15 जुलाई को छात्रवृत्ति अधिकार मंच द्वारा राज्य स्तरीय प्रदर्शन किया गया था जिसके पश्चात राज्य सरकार के प्रतिनिधियों द्वारा 10 दिनों के भीतर छात्रवृत्ति आवेदन पोर्टल 2020-21 को पुनः चालू करने की बात कही गई थी। परंतु विभिन्न प्रतिष्ठित अखबारों के माध्यम से ज्ञात हुआ की पोर्टल तो चालू किया गया परंतु वह सत्र 2020- 2021 के लिए नहीं बल्कि 2021- 22 के  छात्रों के लिए  किया जा रहा है । जब कि वर्तमान में किसी भी तरह का पाठ्यक्रम में नामांकन की प्रक्रिया लेट से हुई नहीं है और अभी 2 महीने तक इसके होने की संभावना भी नहीं है सभी पाठ्यक्रमों का सत्र  विलंब हो चुके हैं जिसके कारण विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अनुसार अंतिम वर्ष के छात्र छात्राओं की अंतिम परीक्षा अगस्त माह में आयोजित किया जाना है और नए सत्र में नाम कर की प्रक्रिया अक्टूबर तक करनी है ऐसे में राज्य कल्याण विभाग द्वारा जारी सूचना में छात्रवृत्ति आवेदन पोर्टल 2021-22 के अंतिम वर्ष के अनुसार अधिकांश छात्रवृत्ति से वंचित रह गए है। अगर पोर्टल 2020- 2021 सत्र के लिए नहीं खोला जाएगा तो सभी छात्र छात्राएं अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन मुख्यमंत्री आवास के समक्ष करने के लिए विवश हो जाएंगे। इस संदर्भ में  देवघर जिले के B.Ed के छात्र-छात्राएं देवघर उपायुक्त एवं जिला कल्याण पदाधिकारी को मांग पत्र सौंपा।

कोई टिप्पणी नहीं