आजादी के 75वें वर्ष पर डॉ. प्रदीप देव की पुस्तक 'डेडिकेशन' भारतमाता को समर्पित



देवघर : हम हर एक भारतवासी अपने वतन के 75वें स्वतंत्रता दिवस को लेकर बहुत सारी तैयारियाँ कर रहे हैं। इसी कड़ी में सन 2019 में भारत सरकार के संचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद के करकमलों से राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता, विवेकानंद शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान के केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने 75 कविताओं का संकलन डेडिकेशन अर्थात समर्पण पुस्तक का प्रकाशन कर भारत माता एवं उनके संतानों को समर्पित करने जा रहे हैं। यह पुस्तक डिलाइट पब्लिकेशन, बेंगलुरु से प्रकाशित होने जा रही है।ज्ञात हो डॉ. देव छातना राजगढ़, बाँकुड़ा, पश्चिम बंगाल एवं इसी राज्य के काशीपुर पँचकोटि राजबाड़ी के वंशज हैं जिन्होंने अपने जन्म के पहले ही छः भाइयों को भी खो चुका है। उनकी पुस्तक द बैद्यनाथ ग्लोरी, पारो की याद में, सबकी मुराद पूरी करते हैं दानी बाबा बैद्यनाथ, इक्यावन रोचक तथ्य,आर्टिस्ट्स ऑफ द नेशन, रामानुजन मैथेमेटिक्स फॉर्मूला फ़ॉर जूनियर्स, सी. वी. रमन साइंस डिक्शनरी, गुड़ इंग्लिश एवं हाल में प्रकाशित वुमेन ऑफ द ईरा काफी चर्चित है। डॉ. देव को भारत गौरव, विद्यासागर, विद्या वारिधि, भारतीय कला सपूत, सरस्वती पुत्र, वाग्देवी अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार, भारतीय कला सपूत सम्मान, तुलसीदास राष्ट्रीय शिखर, स्वामी विवेकानंद राष्ट्रीय शिखर, बिरसा मुंडा ज्योति सम्मान, अंकन नन्दन, आवृत्ति नन्दन, नाट्यमणि, स्वर्ण पदक चन्द्रशेखर वेंकटरमण राष्ट्रीय शिखर, श्रीनिवास रामानुजन राष्ट्रीय शिखर, सर जॉर्ज ग्रियर्सन राष्ट्रीय शिखर, काव्यदीप के अलावा दर्जनों मानद उपाधि प्राप्त हो चुकी है। डॉ. देव ने इस पुस्तक में भाववाचक संज्ञा संवंधित शब्दों जैसे योग्यता, उपयोगिता, चिंता, डर, तर्क, कलात्मकता, जागरूकता, सुंदरता, धारणा, साहस, निर्दयता, दान पुण्य, बचपन के साथ-साथ बरगद पेड़, विवाह, स्नेह एवं अन्य की व्याख्या अंग्रेजी कविताओं दर्शाई है। उन्होंने इस पुस्तक के प्रकाशन में अपने सभी विद्यार्थियों, पत्रकार बन्धुओं एवं शुभेच्छुओं के प्रति आभार व्यक्त किया है। यह पुस्तक पन्द्रह अगस्त से अमेजन एवं फ्लिपकार्ट में उपलब्ध होगी।

कोई टिप्पणी नहीं