भारत विकास परिषद का 59वां स्थापना दिवस मनाया गया

 


देवघर शाखा द्वारा भारत विकास परिषद का 59वां स्थापना दिवस कोरोना महामारी काल के कारण एक संक्षिप्त समारोह में सिविल सर्जन के सभाकक्ष में मनाया गया। स्वामी विवेकानन्द के जन्मशताब्दी के अवसर पर 12 जनवरी 1963 को भारत के प्रमुख उद्योगपतियों एवं समाज-सुधारकों जैसे- लाला हंस राज, डॉ. सूरज प्रकाश आदि द्वारा “नागरिक समिति” की स्थापना की गयी थी ताकि चीनी आक्रमण का प्रतिकार किया जा सके। बाद में इसी का नाम “भारत विकास परिषद” (BVP) रखा गया तथा 10 जुलाई 1963 को सोसायटीज पंजीकरण अधिनियम के अन्तर्गत इसका पंजीकरण हुआ और तब से प्रत्येक वर्ष इसी दिन 10 जुलाई को परिषद का स्थापना दिवस मनाया जाता है। यह परिषद स्वामी विवेकानन्द के आदर्शों एवं शिक्षाओं पर चलती है। 

भारत विकास परिषद एक सेवा एवं संस्कार-उन्मुख अराजनैतिक, सामाजिक-सांस्कृतिक स्वयंसेवी संस्था है। यह मानव-जीवन के संस्कृति, समाज, शिक्षा, नीति, अध्यात्म, राष्ट्रप्रेम आदि में भारत के सर्वांगीण विकास के लिये समर्पित है और इसका लक्ष्यवाक्य – “स्वस्थ, समर्थ, संस्कृत भारत” है।

आज देवघर शाखा ने स्थापना दिवस कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के सिविल सर्जन डॉ. जे. के. चौधरी, अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. बी. पी. सिंह, जिला आरसीएच पदा. डॉ. मंजुला मुर्मू सहित सदर अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारियों डॉ. रवि रंजन, डॉ. दिवाकर पासवान, डॉ. सुषमा वर्मा, डॉ. परमजीत कौर, डॉ. आर. पी. सिंह, डॉ. रवि शेखर सिंह तथा डॉ. राजीव कुमार को सम्मानित किया गया। साथ ही सिविल सर्जन कार्यालय परिसर में चिकित्सा पदाधिकारियों तथा परिषद के सदस्यों द्वारा संयुक्त रूप से ऑक्सीजन की प्रचुरता वाले 5 हाइब्रिड नीम का पेड़ लगाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत परिषद की परंपरानुसार वंदेमातरम गीत तथा भारत माता एवं स्वामी विवेकानंद की तस्वीरों पर पुष्पांजलि के साथ किया गया। वरीय सदस्य संतोष झा ने परिषद का संक्षिप्त परिचय तथा ध्येय से अवगत कराया जबकि उपाध्यक्ष आलोक मल्लिक ने विषय प्रवेश कराते हुए कार्यक्रम का संचालन किया। परिषद के अध्यक्ष ई. प्रकाश चन्द्र सिंह, सचिव डा. राजेश राज, निवर्तमान सचिव ई. अभय कुमार, वित्त सचिव प्रीति कुमारी, सह सचिव डॉ. रुपाली चौधरी ने बारी-बारी से उपरोक्त स्वास्थ्य पदाधिकारियों तथा चिकित्सकों का स्वागत करते हुए भारतीय संस्कार के अनुरुप तुलसी का पौधा, अंगवस्त्र तथा प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। परिषद के अध्यक्ष ने कहा कि भारत विकास परिषद अपने उद्देश्यों के अनुरूप सेवा-सहयोग की भावनाओं को आगे बढ़ाते हुए डेढ़ वर्षों से कोरोना महामारी में सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकों की सेवा भावना, विषम परिस्थितियों में उनके सकारात्मक सहयोग एवं कठोर परिश्रम का आदर करते हुए आज स्थापना दिवस के दिन सम्मान करने का विचार लाया। अस्पताल उपाधीक्षक ने कहा कि वे परिषद के उद्देश्य और कार्यक्रमों से भलीभांति परिचित है और उनके मन में परिषद के प्रति उच्च सम्मान है और देशभर में कई डॉक्टर्स परिषद से सक्रियता के साथ जुड़े हैं। सिविल सर्जन ने कहा कि परिषद के देवघर शाखा में भी चिकित्सकों की सक्रियता और सहयोग काबिलेतारीफ है,  भारतीय सभ्यता और संस्कृति की अलख जगाए रखने में परिषद का कार्य सराहनीय होता है। आपके द्वारा विषम परिस्थितियों में अपने कर्तव्यों में सेवा भावना के साथ जुटे चिकित्सकों का सम्मान करना बड़ी बात है और अपेक्षा जताई कि सुदूर पीएचसी और स्वास्थ्य केन्द्रों के चिकित्सकों का भी उत्साहवर्धन और सम्मान सामाजिक संस्थाओं द्वारा किया जाएगा।

सिविल सर्जन के सभागार में आयोजित इस समारोह के बाद विलियम्स टाउन स्थित ब्राइट कैरियर स्कूल में भी प्राचार्या श्रीमती पुष्पा सिंह के सान्निध्य में परिषद के सदस्यों ने कई फलदार वृक्ष तथा नीम का पेड़ लगाकर परिषद के स्थापना दिवस को और भी यादगार बनाया। परिषद सदस्यों ने कहा कि इन बढ़ते पेड़ों के साथ भारत विकास परिषद की देवघर शाखा भी मजबूत और परिपक्व बनेगी।

कोई टिप्पणी नहीं