12 दिन बाद भी विवाहिता का सुराग नहीं, पुलिस द्वारा कार्रवाई के नाम पर केवल खानापूर्ति।



देवघरः कुंडा थाना क्षेत्र के झारखंडी गाँव निवासी डेगनारायण यादव ने उसी गांव के सिकंदर यादव द्वारा अपनी पुत्री को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने के संबंध में दिनांक 08 जुलाई को कुंडा थाना में लिखित शिकायत देकर अपनी पुत्री के बरामदगी की अपील की थी। दरअसल मामला यह है कि आवेदनकर्ता की पुत्री की शादी चार वर्ष पूर्व बिहार के नालंदा जिला निवासी मंटू यादव के साथ कराई गई थी। विवाहिता का दो वर्षीय पुत्र भी है। लेकिन कुछ दिन से वह अपने पुत्र को लेकर मायके आकर रह रही थी और 7 जुलाई को सुबह करीब 11:00 बजे से अपने पुत्र के साथ लापता हो गई। जब देर शाम वह घर वापस नहीं आई, तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। काफी खोजबीन करने के क्रम मेें दूसरे दिन 8 जुलाई को शाम 7:00 बजे पता चला कि उसी गांव के किशन यादव के पुत्र सिकंदर यादव ने विवाहिता को बहला-फुसलाकर भगा ले गया है। उसी दिन विवाहिता के पिता ने कुंडा थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई थी, ताकि विवाहिता को उसके पति के साथ नालंदा भेजा जा सके। इधर 12 दिन बीत जाने के बाद भी कुंडा पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की। कार्रवाई के नाम पर कुंडा थाना के द्वारा केवल खानापूर्ति करने का काम किया जा रहा है। वहीं लापता युवति के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

कोई टिप्पणी नहीं