आजसू पार्टी के केंद्रीय सचिव माधव चंद्र महतो ने किया प्रेस कॉन्फ्रेंस। कहां की प्रखंड में भ्रष्टाचार चरम पर है।



कुंडहित( जामताड़ा):बुधवार को आजसू पार्टी के केंद्रीय  सचिव माधव चंद्र महतो ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि कुंडहित प्रखंड कार्यालय में भ्रष्टाचार चरम पर है। यहां अधिकारी बिचौलियों के साथ मिलकर सरकारी राशि का बंदरबांट कर रहे हैं ।प्रखंड से कल्याण विभाग का डेढ़ सौ से अधिक साइकिल गायब है। मवेशियों को लगाने वाले वैक्सीन पश्चिम बंगाल में बिक्री किया जाता है। मनरेगा में मजदूरों के बजाय अधिकारी बिचौलिया  सरकारी राशि लूट रहे हैं। उन्होंने बताया कि मनरेगा पोर्टल से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुंडहित प्रखंड में मनरेगा से हजारों योजनाएं संचालित है। लेकिन अधिकारी बिचौलियों के मिलीभगत से मजदूरों को रोजगार देने के बजाय अधिकारी वेंडर के माध्यम से सरकारी राशि लूट कर रहे हैं। अधिकांश योजना में दो -तीन मजदूर को दिखाकर योजना के सामग्री राशि वेंडर के खाते में भेजकर राशि का बंदरबांट किया जा रहा है ।जिसका जीता जागता प्रमाण मनरेगा पोर्टल है। इस पोर्टल में साफ दिख रहा है कि जिस किसी को सामग्री मद का भुगतान वेंडर को किया गया है।उस तिथि को मजदूर मद में मात्र 1 सप्ताह में दो-तीन मजदूर का भुगतान हुआ है ।अब प्रश्न यह उठता है कि उस योजना में कौन सा मजदूर काम किया है?जाहिर है कि या तो अधिकारी योजना का निरीक्षण नहीं करते हैं, या फिर अधिकारी की मिलीभगत है। यही नहीं मनरेगा से निर्मित सिंचाई कूप में प्राक्कलन के अनुसार काम नहीं हो रहा है ।प्राक्कलन के अनुसार मनरेगा सिंचाई कूप में 15 इंच की जुड़ाई का प्रावधान है ।लेकिन बिचौलिया द्वारा 10 इंच की जुड़ाई कर योजना को पूर्ण किया जा रहा है ।सारे योजना का जांच किया जाए तो दूध का दूध पानी का पानी मिल जाएगा।उन्होंने कहा पूर्व प्रखंड कल्याण पदाधिकारी लक्ष्मण हरिजन कुंडहित से स्थानांतरण होने के बाद उक्त प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी को प्रभार दिया गया था ।प्रभार के समय डेढ़ सौ से अधिक साइकिल हस्तांतरण किया गया था। लेकिन आज एक भी साइकिल नहीं है। आखिर साइकिल कौन छात्र-छात्राओं को उपलब्ध कराया गया ।उसका सूची कार्यालय के माध्यम से उपलब्ध कराया जाए ।साथ ही कहा कि पशुओं को लगाने वाले वैक्सीन क्षेत्र के पशुपालकों को नहीं दिया जाता है ।जो कि यह वैक्सीन यहां से लेकर पश्चिम बंगाल तक रैकेट के माध्यम से बिक्री किया जाता है ।2 साल का सूची जांच किया जाए तो एक बड़ा घोटाला सामने आएगा ।उन्होंने कहा की पशुपालकों का मवेशी का 12 अंक के टैग के नाम पर बड़ा घोटाला किया गया है ।इस क्षेत्र में अधिकतर पशुपालकों का मवेशी का टैग नहीं किया गया है। लेकिन उसे टैग दिखाया गया है ,उन्होंने जिला प्रशासन से उक्त मामले की जांच कर भ्रष्ट अधिकारियों पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग किया ।मौके पर प्रखंड अध्यक्ष गया प्रसाद मंडल, सेख आबुल आदि उपस्थित थे।

No comments