ख़्वाजा अहमद अब्बास अपने जीवन में अधिकांश कार्यों में सफल रहे थे : डॉ. प्रदीप



देवघर : ख़्वाजा अहमद अब्बास एक प्रसिद्ध फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और उर्दू लेखक थे। वे उन कुछ गिने चुने लेखकों में से एक थे, जिन्होंने मुहब्बत, शांति और मानवता का पैगाम दिया। उनका जन्म 7 जून 1914 को हरियाणा राज्य के पानीपत में हुआ। एक पत्रकार के रूप में उन्होंने 'अलीगढ़ ओपिनियन' शुरू किया। 'बॉम्बे क्रॉनिकल' में ये लंबे समय तक बतौर संवाददाता और फ़िल्म समीक्षक रहे। इनका स्तंभ 'द लास्ट पेज' सबसे लंबा चलने वाले स्तंभों में गिना जाता है। यह 1941 से 1986 तक चला। अब्बास इप्टा के संस्थापक सदस्य थे। मौके पर स्थानीय विवेकानंद शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान के केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा- ख़्वाजा अहमद अब्बास साहब 'ख़्वाजा ग़ुलाम अब्बास' के पोते थे जो 1857 के विद्रोह के शहीदों में से एक थे। उनके पिता 'ग़ुलाम-उस-सिबतैन' थे जो उन्हें पवित्र क़ुरान पढ़ने के लिए प्रेरित करते, जबकि 'मसरूर ख़ातून' उनकी माँ थीं। उनके ख़ानदान का बखान अयूब अंसारी तक जाता है जो पैगंबर मुहम्मद के साथी थे। अपनी प्रारंभिक शिक्षा के लिए, अब्बास साहब 'हाली मुस्लिम हाई स्कूल' गये जिसे उनके परदादा यानी प्रसिद्ध उर्दू शायर ख़्वाजा अल्ताफ़ हुसैन हाली और मिर्ज़ा ग़ालिब के शागिर्द; द्वारा स्थापित किया गया था। पानीपत में उन्होंने 7वीं कक्षा तक अध्ययन किया, 15 वर्ष की आयु होने पर मैट्रिक समाप्त की और बाद में, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी साहित्य में बी.ए. और एल.एल.बी पूरी की। वे अपने जीवन में अधिकांश कार्यों में सफल रहे थे। उनके सुकोमल प्रेमप्रसंग के परिणामस्वरूप मुज़्तबी बेगम के साथ विवाह का अति सुंदर वर्णन उनकी आत्मकथा 'आई एम नॉट आइलैंड' में किया गया है। यह एक सफल प्रेम विवाह था। कहा जाता है कि उनकी समस्त उल्लेखनीय उपलब्धियों के पीछे उनकी पत्नी का बड़ा योगदान था। सन 1958 में पत्नी की मृत्यु के उपरांत अकेले रह गये। उनकी मृत्यु एक जून उन्नीस सौ सत्तासी में हुई।

No comments