शिक्षक ऑनलाइन शिक्षण एवं ऑनलाइन टेस्ट के माध्यम से शिक्षा का अलख जगा रहे हैं



देवघर।कोरोना महामारी के इस त्रासदी भरे दौर में जहां विद्यालय, महाविद्यालय ,शिक्षण संस्थान आदि बंद है वही देवघर जिले के सारवां प्रखंड के प्लस टू विद्यालय सारवां में पदस्थापित स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षक डॉ रणजीत कुमार सिंह ऑनलाइन शिक्षण एवं ऑनलाइन टेस्ट के माध्यम से शिक्षा का अलख जगा रहे हैं।श्री सिंह कहते हैं की पिछले साल लॉकडाउन में ऑनलाइन टीचिंग में जो परेशानियां हुई अब वह सारी की सारी परेशानियां दूर हो चुकी है और लोग अभ्यस्त हो चुके हैं।  अर्थात आज की मांग भी ऑनलाइन टीचिंग ही है और आवश्यकता के अनुसार लोगों ने ऑनलाइन टीचिंग सीख भी ली है और उसकी आदत भी डाल दी है।श्री सिंह लगातार अपने यूट्यूब चैनल "क्रिएटिव केमेस्ट्री विथ रंजीत" पर लाइव क्लास तथा जूम एप के माध्यम से बच्चों का मार्गदर्शन एवं शिक्षण कर रहे हैं। चूंकि यूट्यूब लाइव स्ट्रीमिंग में बच्चे अपनी बातों को बोल कर नहीं रख पाते हैं अतः जूम एप से एक डाउट क्लियर सेशन भी रखा जाता है।श्री सिंह का कहना है कि तकनीक के समावेश से ऑनलाइन शिक्षण अतिरुचि पूर्ण हो जाता है । खासकर विज्ञान की कक्षा में मॉडल का उपयोग कर पढ़ाना बच्चों को आकर्षित भी करता है। इनके यूट्यूब चैनल पर तकनीकी सहायतार्थ अनेक वीडियो भी उपलब्ध है जो छात्रों के साथ-साथ शिक्षकों को भी लाभ पहुंचा रहा है साथ ही साथ मैट्रिक एवं इंटर के बाद कैरियर के चुनाव के लिए भी सुझाव हेतु वीडियो उपलब्ध है।प्रत्येक अध्याय की समाप्ति के बाद छात्रों के मूल्यांकन हेतु गूगल फॉर्म की सहायता से एक ऑनलाइन क्विज का आयोजन किया जाता है जिसमें राज्य भर के छात्र-छात्राएं भाग लेते हैं।इसी कड़ी में दिनांक 20  जून को 12वीं के लिए रसायन शास्त्र के प्रथम अध्याय ठोस अवस्था के ऑनलाइन क्विज का आयोजन किया गया जिसमें लगभग 800 छात्रों ने भाग लिया।इनके अनुसार इस महामारी को एक मौके के रूप में लेते हुए देश भर में एक तकनीकी माहौल का निर्माण किया गया है जो निकट भविष्य में लाभदायक सिद्ध होगा।श्री सिंह ने इसके लिए सरकार के महत्वाकांक्षी योजना की प्रशंशा की जिसके तहत  राज्य के विद्यालयों में आईसीटी की स्थापना इस माहौल को तैयार करने में अपनी महत्वपूर्ण ,अद्वितीय भूमिका निभाता रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं