पहली बरसात के पानी से झील तलाब का घाट दरक कर ढह गया, मात्र दो साल पूर्व लारवों रुपया में बना था घाट!



मधुपुर 16 जून लारवों रुपया से निर्मित शहर के झील तालाब घाट  पहला बरसात के पानी में ढह गया। छ्ठ वर्तइयों की सूविधा के तत्कालीन एसडीओ सह प्रभारी कार्यपालक पदाधिकारी नंद किशोर लाल के घाट निर्माण के लिए नींव रखी थी उनके प्रयास से निर्माण कार्य के लिए स्वीकृति हुई थी।उनका ट्रासंफर होने के बाद तत्कालीन नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी अमित कुमार के समय यह काम पूरा हुआ था निर्माण कार्य में अलग कई संवेदक फीट के हिसाब से काम लिया था। मात्र दो साल में मानसून के पानी से घाट दरक गया। इघर वार्ड पार्षद  गोविंद प्रसाद यादव ने  कहा निर्माण कार्य में घोर अनियमितता बरती गई  है। 



निर्माण कार्य कर दौरान उन्होंने  कार्यपालक पदाधिकारी  व अभियंताओं को पत्र लिखा था।  कि  स्वयं की निगरानी में कार्य को कराएं। कार्य  की गुणवत्ता सही नहीं हो रहा है।लेकिन  ऐसा नहीं हुआ संवेदक घोर अन्विता कर काम किए और सारा भुगतान करा लिया। झील तालाब घाट ढह जाने से पूरा शहर के लोग बहुत तकलीफ है।हम भी तकलीफ हैं।आसपास के लोग पर हृमसे शिकायत करते है।नगर परिषद इस बावत हमसे कोई लिखित नहीं लिया।बिल भुगतान कर दिया हमने बोला भी कि यह काम खराब कर रहा है।और आप लोग बना दिए चेक काट दिए यह गलत हुआ।सारा सारी जनता का पैसा है I गलत हुआ है।हम भी तकलीफ का पूरा शहर के लोग बहुत तकलीफ हैं । उन्होंने कहा कि इस की जांच होनी चाहिए अगर कोई भी दोषी हो उस पर कार्रवाई हो जाए हम क्यों ना हो जनता का पैसा धार्मिक कार्य में लगाया गया था व सामाजिक कार्य में लगाया गया था जिसे आनन-फानन में बंदरबांट किया गया है!

कोई टिप्पणी नहीं