कोविड टीका से शत प्रतिशत आच्छादित दस पंचायत को सीएसआर मद से दिया जाएगा मॉडल स्कूल:- उपायुक्त



जिले में शत प्रतिशत वैक्सीनेशन, "सुरक्षित गांव, हमर गांव" अभियान के सफल संचालन एवं शहरी क्षेत्र हेतु स्वास्थ्य देवघर, सुरक्षित देवघर अभियान के संचालन को लेकर वेबिनार का आयोजन किया गया। इस दौरान उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री, जिले के 194 पंचायत के कार्यकारी मुखिया, पंचायत सचिव, पंचायत समिति के सदस्य, नगर निगम व जिला स्तर के अधिकारियों के अलावा मीडिया पार्टनर की भूमिका में दैनिक जागरण देवघर, रांची व धनबाद की टीम शामिल हुई।

इसके अलावे वेबिनार के दौरान उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री के पहल पश्चात सुरक्षित गांव हमर गांव अभियान को लेकर विस्तृत चर्चा के साथ उपस्थित जनप्रतिनिधियों, कार्यकारी मुखिया, मीडिया प्रतिनिधि दैनिक जागरण के सदस्य एवं संबंधित अधिकारियों द्वारा अपने-अपने सुझाव व जागरूकता को लेकर अपने विचार उपायुक्त के समक्ष प्रस्तुत किए। इस दौरान मेधा डेयरी के अधिकारी  ललन मिश्रा द्वारा जानकारी दी गई लोगों को कोविड टीका के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से 1 जून से 30 जून तक वैसे परिवार जो एक साथ चार या उससे अधिक सदस्य कोविड का टीका लगवाते है तो उनका मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से मेधा डेयरी पेड़ा के 100-100 ग्राम का पैकेट दिया जाएगा। इस हेतु उन्हें अपने फोन में आये रजिस्ट्रेशन नंबर एवं कोविड टीका लेने के पश्चात दिए गए प्रमाण पत्र को दिखा कर इसका लाभ उठा सकते हैं।

इसके अलावे परिचर्चा के दौरान दौरान जागरण परिवार के स्थानीय संपादक, झारखंड श्री प्रदीप शुक्ला के ओर से सुरक्षित गांव, हमर गाव अभियान के सफ़ल संचालन को लेकर उपायुक्त, देवघर को बधाई दी गई। साथ ही उन्होंने कहा कि उपायुक्त, देवघर के पहल के पश्चात सुरक्षित गांव हमर गांव अभियान की तरह जागरण परिवार की ओर से भी पुरे झारखंड में yes for vaccination मुहिम की शुरुआत की गई है। जिसका मुख्य उदेश्य शत प्रतिशत जनमानस को कोविड टिका से लाभान्वित करना है। आगे उन्होने आगे कहा कि अभी भी बहुत से लोग टिका लगवाने में डर रहे है परन्तु उपायुक्त महोदय के द्वारा चलाय गया सुरक्षित गांव, हमर गाव अभियान काफी सराहनीय है, इस पहल के पश्चात अन्तिम क्षोर तक के व्यक्ति जागरुक हो रहे हैं और आगे बढ़ कर वैक्सीनेशन करवा रहा है। जागरण परिवार ने उपायुक्त के प्रति आभार जताते हुए कहा कि यहां पर वैक्सीन का वेस्टेज नहीं के बराबर हुआ है। इसके लिए उपायुक्त धन्यवाद के पात्र हैं।

इसके अलावे परिचर्चा के दैनिक जागरण का प्रतिनिधित्व कर रहे आरसी सिन्हा ने सुरक्षित गांव हमर गांव के साथ अभियान यस फॉर वैक्सीन की चर्चा करते हुए उपायुक्त के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि जब तक सभी लोग टीका नहीं ले लेते तब तक हम सुरक्षित नहीं हो सकते। लेकिन इस बात का ख्याल रखें कि जब तक देवघर के सभी लोग टीका नहीं ले लेते और कोरोना का केस शून्य नहीं हो जाता तब तक पूरी सावधानी बरत कर अपने दायित्वों को निभाएं।

■ जागरूकता, सतर्कता, सावधानी पर दे विशेष रूप से ध्यान:- उपायुक्त....

वेबिनार के दौरान उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में जिस तत्परतापूर्वक आप सभी जिला प्रशासन का सहयोग किया है वो काबिलेतारीफ और सराहनीय है। आज "सुरक्षित गांव, हमर गांव" का कॉन्सेप्ट आप सभी जनप्रतिनिधियों की भागीदारी से सुनिश्चित हुआ है। आप सभी जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र में रहकर आम जनों की समस्याओं को काफी करीब से समझते हैं। ऐसे में संक्रमण को रोकने के लिए आप सभी के सुझाव काफी लाभदायी और महत्वपूर्ण रहे है। जिला प्रशासन का लगातार प्रयास है की आप सभी के सुझावों को लेते हुए स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को दिन प्रतिदिन सुदृढ़ करने का प्रयास किया जा रहा है। 

इसके अलावे उपायुक्त ने जिले के सभी 194 पंचायतों के कार्यकारी मुखिया से अपील करते हुए कहा कि कोविड रोकथाम का सबसे कारगर उपाय टीका है, ऐसे में शत प्रतिशत टीकाकरण ही हम सभी का उद्देश्य हो। साथ ही जिले के 10 ऐसे पंचायत जहाँ सबसे पहले टीकाकरण का कार्य पूर्ण किया जाएगा। उन पंचायतों को पुरस्कृत करने के उद्देश्य से सीएसआर मद से मॉडल स्कूल का निर्माण कराया जाएगा, ताकि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ गांव के बच्चों को शहर के स्कूलों की तरह गांव में ही पठन-पाठन का वातावरण दिया जाएगा। हमारे जीवन मे शिक्षा महत्व सबसे ऊपर है। जीवन में स्कूली शिक्षा का महत्व और प्रभाव लॉन्ग-टर्म रहता है। लेकिन कई लोग शिक्षा की महत्वता सही समय पर समझ नही पाते हैं। खास कर कुछ ऐसे छात्र जो स्कूल ड्राप आउट कर अन्य काम में लग जाते हैं और ऐसा भी देखा गया है कि कुछ अभिभावक बच्चों की पढ़ाई बीच में ही रोक देते हैं। इसका प्रभाव उन्हें उस समय तो समझ नहीं आता है लेकिन इस कारण भविष्य में बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। जितना ज्यादा हम अपने जीवन में शिक्षा से ज्ञान प्राप्त करते हैं, उतना ही ज्यादा हम अपने जीवन में विकास करते हैं। एक अच्छे पढ़े-लिखे इन्सान का मतलब सिर्फ यह कभी नहीं होता कि अच्छी डिग्री और अच्छे जगह  नौकरी प्राप्त करना, इसका यह भी अर्थ है कि आप अपने जीवन में अच्छे और सामाजिक व्यक्ति बने। शिक्षा हमें हमारे लिए और हम से संबंधित व्यक्तियों के लिए क्या सही है और क्या गलत है को निर्धारित करने में मदद करती है। शिक्षा प्राप्त करने का सबसे पहला उद्देश्य एक अच्छा नागरिक बनना और उसके बाद व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में सफल व्यक्ति बनना होता है। शिक्षा हमें सही सोच और सही निर्णय लेने में समक्ष बनती है। इस भाग-दौड़ की दुनिया में, शिक्षा हर व्यक्ति की भोजन, कपड़े और आवास का प्रमुख श्रोत बन गयी है। ऐसे में आवश्यक है हम सभी अपने-अपने स्तर से लोगो को इस विषय पर भी जागरूक करें।

कोविड संक्रमण को लेकर उपायुक्त द्वारा जानकारी देते हुए कहा कि महामारी को रोकने में टीकाकरण सबसे प्रभावशाली तरीका है। इस संदर्भ में जिले के 45 से अधिक उम्र के लोगों का शत प्रतिशत टीकाकरण को लेकर जिला प्रशासन प्रयासरत है। सुरक्षित गांव, हमर गाव अभियान के तहत लक्ष्य को पूरा करने के लिए पंचायत से लेकर प्रखंड स्तर के टीम का गठन किया गया। अभियान में पंचायत स्तर पर सभी पदाधिकारियों, कर्मचारियों तथा सहिया, स्वयं सहायता समूह के सदस्य को जोड़ा गया है, ताकी शत प्रतिशत जनमानस को कोविड टिका से लाभान्वित किया जा सके। आगे उन्होने कहा की कोरोना वैक्सीन से जुड़ी कई प्रकार की भ्रांतियां इंटरनेट मीडिया के माध्यम से आ रही हैं, जो भ्रामक और अपुष्ट हैं। इसको लेकर उन्होने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है, कोविड-19 वैक्सीन से जुड़ी किसी भी तरह की भ्रांति या अपुष्ट जानकारी पर ग्रामीण ध्यान नहीं दें। विशेष अभियान के तहत टीकाकरण केंद्रों में 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जा रहा है। योग्य व्यक्ति नजदीकी टीकाकरण स्थल पर जाकर टीका लगवा सकते हैं। उन्होंने सरकार व जिला प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पूर्ण अनुपालन करने के लिए उपस्थित लोगों को प्रोत्साहित भी किया। 

■ कोविड नियमों का अनुपालन अति महत्वपूर्णः-उपायुक्त....

बैठक सह परिचर्चा के दौरान उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी  मंजूनाथ भजंत्री द्वारा जानकारी दी गई है कि स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड नियमों के शत प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करने के उदेश्य से सभी पंचायतों में जांच दल व सर्वे दल द्वारा जांच किया जा रहा है। इसके अलावा लोगों को सतर्क और जागरूक करने की कड़ी को मजबूत करने के उद्देश्य से आप सबों को जोड़ते हुए व्हाट्सएप ग्रुप से आप सभी को जोड़ा गया है, ताकि 194 पंचायत में वैक्सीनशन, कोविड टेस्टिंग, स्वास्थ्य व्यवस्था की निगरानी को लेकर (सुरक्षित गांव, हमर गांव) बनाने के साथ पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों व कर्मियों को जोड़ा गया है, ताकि पंचायत स्तर की आवश्यकताओं को देखते हुए उसे त्वरित पूरा किया जा सके। ऐसे में आप सभी से मेरा आग्रह होगा कि लोगों को जागरूक करने में आप सभी की भूमिका सराहनीय है। वही दूसरी ओर हम सभी जानते हैं की वर्तमान में देश के 10 संवेदनशील जिलों में देवघर जिला शामिल है। जहाँ कभी भी कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में अपने-अपने स्तर से सभी को सतर्क, सजग और सावधान रहने की आवश्यकता है, ताकि संक्रमण फैलने का खतरा न रहें।

इस दौरान बैठक में उपरोक्त के अलावे नगर आयुक्त शैलेन्द्र लाल, अनुमंडल पदाधिकारी दिनेश कुमार यादव, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी रवि कुमार, जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी  एबी रॉय, सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी रोहित कुमार विद्यार्थी एवं संबंधित विभाग के अधिकारी आदि उपस्थित थे।

No comments