हूल दिवस पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष शशांक शेखर भोक्ता ने सिदो-कान्हू को दी श्रद्धांजलि।



देवघर- हूल दिवस पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सह केंद्रीय उपाध्यक्ष झारखंड मुक्ति मोर्चा शशांक शेखर भोक्ता ने सारठ विधानसभा क्षेत्र के चिरुलिया, मुर्गाबनी, बगदाहा, कुसमाहा, नावाडीह लोधरा, पालोजोरी सहित दर्जनों स्थानों पर पहुंच कर सिदो-कान्हू को श्रद्धांजलि अर्पित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि शहीद सिदो-कान्हू, चांद भैरव को आज नमन करने का दिन है अमर बलिदानी सिदो-कान्हू ने आजादी की पहली लड़ाई की शुरुआत संथाल परगना के भोगनाडीह में 20 हजार संथालों का जुटान कर 30 जून 1855 को किया था, जिसका नाम हूल दिया गया था। इस देश की जनता कभी भी इन वीर सपूतों के योगदान को नहीं भुला पाएगा। निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर अंग्रेजों के दमनकारी नीति के खिलाफ चारों भाइयों सिदो-कान्हू एवं चांद-भैरव ने बिगुल फूंका था।

कोई टिप्पणी नहीं