विश्व नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर रेलवे सुरक्षा बल ने चलाया जागरूकता अभियान



देवघर मधुपुर  शनिवार को मधुपुर स्टेशन परिसर स्टेशन रोड एवं रेलवे कॉलोनी में रेलवे सुरक्षा बल के द्वारा विश्व नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर जागरूकता अभियान चलाया गया। जागरूकता अभियान के तहत रेलवे सुरक्षा बल के कर्मियों के द्वारा एक रैली निकाला गया जो मधुपुर स्टेशन से प्रारंभ होकर मधुपुर स्टेशन रोड राज बाड़ी रोड से होते हुए रेलवे कॉलोनी का भ्रमण करते हुए मधुपुर स्टेशन तक पहुंचा इस दौरान रेलवे सुरक्षा बल के कर्मियों के द्वारा नशा मुक्ति से संबंधित नारे भी लगाए गए। इस अभियान के तहत रेलवे सुरक्षा बल के कर्मियों ने आरपीएफ इंस्पेक्टर ए के सरकार के नेतृत्व में मधुपुर स्टेशन में आवागमन करने वाली पूर्वा एक्सप्रेस जनशताब्दी एक्सप्रेस पटना पुरी एक्सप्रेस एवं टाटा दानापुर एक्सप्रेस रेलगाड़ियों कि यात्रियों को नशा मुक्ति को लेकर जागरूक किया।  यात्रियों को यह समझाने का प्रयास किया गया कि नशा किस तरह एक आदमी की जिंदगी खराब कर सकता है।



किस तरह नशे के चक्कर में पड़कर लोग बड़े से बड़े अपराध करने को उतारू हो जाते हैं। इसलिए हमें हर हालत में नशे का त्याग करना है। हम सभी को यह कोशिश करना चाहिए कि हम किसी भी तरह के नशे का शिकार ना बने। इसके साथ साथ स्टेशन परिसर में भी आवाजाही कर रहे यात्रियों को रेलवे सुरक्षा बल के कर्मियों ने रोककर उन्हें नशा मुक्ति के लिए प्रेरित किया। उन्हें यह बताया कि किस तरह आज के युवा विभिन्न प्रकार के मादक पदार्थों की लत पकड़ रहे हैं। बहुत से युवा नशे का इंजेक्शन भी लेते हैं। जिसके लेने के बाद उनके दिलो-दिमाग पर वह नशा ऐसा हावी होता है कि वह कोई भी संगीन अपराध करने को उतारू हो जाते हैं। नशे की लत लग जाने के बाद जब कुछ लोगों के पास नशे खरीदने के लिए पैसे नहीं होते तो वे चोरी, चेन खींचना, छिनताई जैसे अपराधों में लिफ्ट हो जाते हैं। उन्हें जब समय पर नशा नहीं मिलता तो वह पागलों की तरह करने लगते हैं और नशा करने के लिए कोई भी अपराध कर सकते हैं। यदि हम नशा से समाज को मुक्ति दिला सकेंगे तो अपराध में भी कमी आएगी। अपने घर के बच्चों को यह सलाह अवश्य दें कि यह बहुत ही गंदी चीज है।मौके पर आरपीएफ इंस्पेक्टर एके सरकार ने कहा कि आज विश्व नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर आरपीएफ के द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। हम लोग ट्रेन में आने जाने वाले यात्रियों को तथा स्टेशन के बाहर आवाजाही करने वाले यात्रियों को नशा से होने वाले नुकसान को बताकर उन्हें जागरूक कर रहे हैं। आरपीएफ का यह हमेशा प्रयास रहता है कि ट्रेनों के जरिए नशे का परिवहन ना हो सके मौके पर आरपीएफ इंस्पेक्टर एके सरकार, देवनाथ कुमार, एसआई महेंद्र प्रसाद, विनोद कुमार, एएसआई आर के पांडे, हेड कांस्टेबल उमेश कुमार, डीएन मिश्रा, अजय कुमार, एस बिहारी, कॉन्स्टेबल रोशन कुमार, एसएन यादव, सुधीर कुमार, अनूप कुमार समेत रेलवे सुरक्षा बल के जवान मौजूद थे!

कोई टिप्पणी नहीं