संकल्प दिवस के रूप में छात्र मना रहे बिरसा मुंडा की शहादत दिवस।



देवघर- बुधवार को जिले के बी.एड के विद्यार्थियों ने उलगुलान के नायक बिरसा मुंडा की शहादत दिवस पर उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किया। माल्यार्पण के बाद प्रदेश उपाध्यक्ष आशीष कुमार ने कहा कि बिरसा मुंडा का योगदान भारतीय इतिहास में अमूल्य है। धरती आबा के नाम से प्रचलित बिरसा मुंडा ने अंग्रेजो के खिलाफ विद्रोह किया। इतिहास में इसे उलगुलान के नाम से जाना जाता है। बिरसा मुंडा ने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ आदिवासी जनजाति के लिए छोटानागपुर टेनेंसी एक्ट बनाने को मजबूर हुई। आज नामाँकन प्रक्रिया के बीच मे छात्रवृत्ति आवेदन पोर्टल को बंद किए जाने के खिलाफ पूरे राज्य भर में B.Ed, प्रोफेशनल,

वोकेशनल कोर्स के छात्र-छात्राएं बिरसा मुंडा की शहादत दिवस को संकल्प दिवस के रूप में मना रहे हैं। जिला B. Ed.  के विधार्थी ने कहा कि बिरसा मुंडा के सपनों का झारखंड अधूरा है। झारखंड की शिक्षा व्यवस्था में सुधार न होकर लगातार इसका ह्रास हो रहा है।सरकारो ने केवल झारखण्ड के संसाधनों का दोहन किया। झारखंड के युवा आज बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं। झारखंड जो खनिजों से परिपूर्ण है,फिर भी यहां के युवाओं को पलायन करना पड़ता है। जीविका चलाने के लिए दर दर की खाक छाननी पड़ती है। कोरोना काल में यहां के छात्र युवाओं की स्थिति बहुत ही दयनीय हो गई है।बिना छात्रवृत्ति के हज़ारों छात्र अपनी पढ़ाई छोड़ने को विवश है।बिरसा मुंडा ने संघर्ष का राह लोगो को दिखाया,उनके विचारों को जन जन तक पहुंचाते हुए एक सही समाज बनाने का सभी को आज संकल्प लेना चाहिए और दूसरे को भी  सही समाज बनाने के लिए प्रेरित करने की जरूरत है। आदिवासी संस्कृति रक्षा के लिए लिए सरकार को जरूरी कदम उठाने की जरूरत है। आज के कार्यक्रम में  जिले के बी.एड की विद्यार्थी मौसमी कुमारी, सुशांत कुमार, प्रीतम कुमार, अनीश कुमार, सुभाष कुमार तथा अन्य साथी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं